नेशनल

अयोध्या: धर्मसभा में VHP का ऐलान, विवादित स्थल पर नहीं पढ़ने देंगे नमाज

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1881
| नवंबर 25 , 2018 , 13:08 IST

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के मुद्दे पर विश्व हिंदू परिषद ने धर्मसभा का आयोजन किया है। ये धर्मसभा सुबह 11 बजे से शुरु होकर दोपहर 4 बजे तक चलेगी। विश्व हिंदू परिषद का दावा है कि इस धर्मसभा में 3 लाख से ज्यादा रामभक्त आएंगे। लोगों की संख्या को देखते हुए अयोध्या को किले में तब्दील कर दिया गया है। चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

धर्मसभा 11 बजे सभा शुरू हो जाएगी। बीजेपी के कई बड़े चेहरे भी सभा में शामिल हो सकते हैं। लेकिन मंच पर हरिद्वार, अयोध्या और अन्य प्रदेशों से आने वाले संत ही बैठेंगे। विहिप संतों के साथ राम मंदिर मुद्दे पर राय रखेगी और सरकार पर कानून बनाने का दबाव बनाएगी।

विहिप करा रही है 'धर्म संसद' का आयोजन

विश्व हिंदू परिषद (विहिप) भी रविवार को राम मंदिर के जल्द से जल्द निर्माण की मांग के लिए 'धर्म संसद' का आयोजन करने वाली है।आयोजकों ने इसके लिए राज्य के विभिन्न भागों से लोगों को लाने-ले जाने के लिए कई ट्रेनों, बसों, ट्रालियों, टैक्सियों को लोगों के लिए बुक किया है। पुलिस सूत्रों ने कहा कि रविवार को दो लाख से ज्यादा लोगों के अयोध्या आने की संभावना है।

मुझे राम मंदिर की तारीख चाहिए- उद्धव ठाकरे

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे शनिवार को अयोध्या पहुंचे। उन्होंने कहा कि यहां चार साल से सो रहे कुम्भकरण को जगाने आया हूं। सब मिलकर मंदिर बनाएंगे तो जल्द पूरा हो जाएगा। यदि कोई मंदिर बना सकता है तो वह श्रेय ले सकता है। उद्धव ने कहा कि हमें मंदिर बनाने की तारीख चाहिए। बाकी बातें बाद में होती रहेंगी।

धर्मसभा के बाद सीधे मंदिर बनेगा- विहिप

रविवार को यहां होने वाली धर्म सभा से पहले विश्व हिंदू परिषद ने कहा है कि यह हमारी आखिरी बैठक होगी। इसके बाद और सभाएं या प्रदर्शन नहीं होंगे। न ही किसी को समझाया जाएगा। सीधे मंदिर निर्माण होगा। विहिप के संगठन सचिव भोलेंद्र ने कहा, ‘‘हमने पहले 1950 से 1985 तक 35 साल अदालती फैसले का इंतजार किया। इसके बाद 1985 से 2010 तक का समय हाईकोर्ट को फैसला देने में लग गया। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने त्वरित सुनवाई की अर्जी दो मिनट में ठुकरा दी। दुर्भाग्य है कि 33 साल से रामलला टेंट में हैं। अब और इंतजार नहीं होगा।

जल्द बने कानून, नहीं खुद बनाएंगे मंदिर- स्वामी रामदेव

राम मंदिर निमार्ण को लेकर विश्व हिन्दु परिषद, आरएसएस और शिवसेना के अयोध्या में जमावड़े और केंद्र सरकार पर अध्यादेश लाकर राम मंदिर निर्माण को लेकर दबाव के बीच योग गुरु बाबा रामदेव ने अपना रुख जाहिर किया है। बाबा रामदेव ने कहा कि लोगों के सब्र का बांध टूट चुका है, इसलिए सरकार को कानून लाकर राम मंदिर का निमार्ण करना चाहिए। रामदेव ने कहा कि ऐसा नहीं हुआ तो लोग अपने दम पर मंदिर बनाने लगेंगे और माहौल खराब होगा।

किले में तब्दील हुई रामनगरी

रविवार को अयोध्या किले में तब्दील हो गया। पुलिस ने अयोध्या को आठ जोन और 16 क्षेत्रों में बांट दिया। राज्य के मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय, मुख्य सचिव(गृह) अरविंद कुमार और पुलिस महानिदेशक ओ.पी. सिंह ने वीडियो-कांफ्रेंसिंग के जरिए राज्य की सुरक्षा स्थितियों का जायजा लिया। राज्य सरकार ने यहां पीएसी (प्राविंसियल आम्र्ड कांस्टेबुलरी) की संख्या 20 से बढ़ाकर 48 कर दी है। डीजीपी ने शुक्रवार को कहा, "डरने की कोई बात नहीं है। हम सतर्क हैं और कानूव व व्यवस्था का पालन किया जाएगा।"


कमेंट करें