नेशनल

'पीपली लाइव' के डायरेक्टर को SC से मिली बड़ी राहत, रेप मामले में हुए बरी

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
877
| जनवरी 19 , 2018 , 16:44 IST

सुप्रीम कोर्ट ने कथित बलात्कार मामले में ‘पीपली लाइव' के सह-निर्देशक महमूद फारुकी को बरी किए जाने के दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले को शुक्रवार को बरकरार रखा और उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ दायर शिकायतकर्ता की याचिका खारिज कर दी। शीर्ष अदालत ने 30 वर्षीया महिला की याचिका खारिज करते हुए कहा कि वह उच्च न्यायालय के फैसले में हस्तक्षेप नहीं करेगी जो एक ‘अच्छी तरह लिखा गया फैसला' है।

जस्टिस बोबडे ने शिकायतकर्ता लड़की के वकील से पूछा, ‘कितनी बार आप (लड़की) फारूकी के साथ घूमे? कितनी बार दोनों (फारूकी और लड़की) ने साथ ड्रिंक पी? इस घटना के बाद भी लड़की ने फारुकी को ‘आई लव यू’ का सन्देश क्यों भेजा? कोई रेप पीड़िता किसी आरोपी को ऐसे सन्देश क्यों भेजेगी?’ शीर्ष अदालत ने माना कि फारुकी और लड़की दोनों एक दूसरे के लिए अजनबी नहीं थे।

दोनों ने एक दूसरे से अच्छी दोस्ती थी, कई बार साथ ड्रिंक किया था. दोनों के बीच घटना से पहले सेक्सुअल इंटरेक्शन भी था। इसी आधार पर सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट द्वारा फारूकी के बरी करने के फैसले को बरकरार रखा।

आपको बता दें कि एक अमेरिकी रिसर्चर ने मार्च, 2015 में फिल्म निर्देशक महमूद फारूकी के खिलाफ उसके संग बलात्कार करने का आरोप लगाया था। इस संबंध में उस 35 वर्षीय महिला ने दिल्ली के न्यू डिफेंस कालोनी थाने में मामला दर्ज कराया था।

शिकायतकर्ता महिला न्यूयॉर्क के कोलंबिया विश्वविद्यालय से अपना शोध कर रही थी। उसने पुलिस को दिए गए बयान में बताया था कि सुखदेव विहार में स्थित एक किराए के मकान में फारूकी ने उसके साथ रेप किया था।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें