इंटरनेशनल

ट्रंप ने कहा- मेरे कार्यकाल में लोग अधिक सुरक्षित, उत्तर कोरिया से अब कोई खतरा नहीं

शुभा सचान , न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1691
| जून 14 , 2018 , 19:47 IST

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और उत्तर कोरिया के किम जोंग-उन की ऐतिहासिक मुलाकात के बाद ट्रंप वॉशिंगटन लौट आए हैं। ऐतिहासिक शिखर सम्मेलन से वापस लौटते ही ट्रंप ने ट्वीट कर उत्तर कोरिया से कोई खतरा ना होने की बात कही। ट्रम्प ने शिखर सम्मेलन की सफलता गिनाते हुए दो ट्वीट किए।

पहले ट्वीट में ट्रम्प ने लिखा कि 'अभी- अभी पहुंचा हूं, लेकिन मेरे कार्यभार संभालने के दिन के मुकाबले अब हर कोई अधिक सुरक्षित महसूस कर रहा है। अब उत्तर कोरिया की तरफ से परमाणु हमले का कोई खतरा नहीं है।

वहीं दूसरे ट्वीट में ट्रंप ने लिखा कि "मेरे पद संभालने से पहले लोग अनुमान लगाते थे कि हम उत्तर कोरिया के साथ युद्ध करने वाले हैं। राष्ट्रपति ओबामा ने कहा था कि उत्तर कोरिया हमारी सबसे बड़ी और सबसे खतरनाक समस्या है। अब नहीं है।" 'आज रात चैन की नींद सोना चाहिए।

गौरतलब है कि 12 जून को उत्तर कोरियाई तानाशाह किम जोंग और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सिंगापुर में शिखर वार्ता की थी। इस दौरान उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने अमेरिका से सुरक्षा संबंधी गारंटी के बदले 'पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण' की दिशा में काम करने का वादा किया था।

सिंगापुर में हुई बैठक में डोनाल्ड ट्रंप ने ‘फ्रीज-फ़ॉर-फ्रीज़’ की नीति पर चलते हुए ही उत्तर कोरिया से समझौता किया। ट्रंप ने अमेरिका-दक्षिण कोरिया के वार्षिक सैन्याभ्यास को स्थगित करने की बात कहकर सभी को चौंका दिया। यह हैरानी इसलिए भी थी कि इस बैठक में उत्तर कोरिया से कोई ठोस आश्वासन लिए बिना ही ट्रंप ने उसे यह रियायत दे दी।

Dfh5gjBVQAAh_Y9

ट्रम्प ने जहां किम को परमाणु हथियार पूरी तरह खत्म करने पर राजी कर लिया वहीं बदले में सुरक्षा की गारंटी भी दी। इसके साथ ही इस बैठक में अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच शांति और सौहार्द्र के लिए प्रयास किए जाएंगे।

उत्तर कोरिया ने भी अपने परमाणु हथियारों को पूरी तरह खत्म करने का आश्वासन दिया। अमल के लिए दोनों देश फॉलोअप बातचीत करेंगे। अमेरिका की तरफ से माइक पोम्पियो इसमें शामिल रहेंगे।

ट्रंप ने कहा, "उत्तर कोरिया के निरस्त्रीकरण पर महान प्रगति हुई। बंधक वापस आ रहे हैं, हम अपने महान नायकों के अवशेष उनके परिवारों तक पहुंचा रहे हैं। अब कोई मिसाइल नहीं दागा जाएगा, कोई अनुसंधान नहीं होगा, परमाणु साइट बंद हो रहे हैं।"

उन्होंने कहा, "किम का महान साथ मिला, जो अपने देश के लिए बेहतरीन चीजों को करना चाहते हैं। जैसा कि मैंने पहले कहा था : युद्ध तो कोई भी कर सकता है, लेकिन सबसे बहादुर व्यक्ति ही शांति की स्थापना कर सकता है।"

इससे पहले ट्रंप ने किम को उनके लोगों के 'बेहतर भविष्य' के लिए साहसी कदम उठाने के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि मंगलवार को आयोजित शिखर बैठक से दुनिया संभावित परमाणु विनाश से बहुत दूर हो गई है।

उन्होंने कहा कि किसी अमेरिकी राष्ट्रपति और उत्तर कोरिया के शीर्ष नेता के बीच हमारी अभूतपूर्व बैठक- ने यह साबित कर दिया कि वास्तविक बदलाव संभव है।


कमेंट करें