राजनीति

Facebook का डैमेज कंट्रोल: राजनीतिक एड के साथ दिखेगा पैसे देने वाले का नाम भी

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
713
| अप्रैल 7 , 2018 , 16:07 IST

फेसबुक डेटा लीक मामले में आलोचना का शिकार हुआ फेसबुक अब अपनी साख बचाने के लिए ऐक्शन में आ गया है। अब वह एक ऐसा कदम उठाने जा रहा है जिससे राजनीतिक गलियारों में हलचल का माहौल पैदा हो सकता है। दरअसल कैम्ब्रिज एनालिटिका स्कैंडल में फंसे फेसबुक और उसके सीईओ मार्क जकरबर्ग ने कहा है कि अब राजनीतिक विज्ञापन बिना वेरिफिकेशन के नहीं मिलेंगे। इसके अलावा राजनीतिक पार्टियों के पेज का भी वेरिफिकेशन कराना होगा।

जकरबर्ग ने एक फेसबुक पोस्ट के जरिए इस बात की जानकारी दी। जकरबर्ग ने लिखा, 'अमेरिका, मैक्सिको, ब्राजील, भारत और पाकिस्तान समेत कई देशों में अगले साल चुनाव होने हैं और 2018 के लिए हमारा उद्देश्य है कि हम इन चुनावों के लिए एक सकारात्मक माहौल बनाएं और उनमें हस्तक्षेप न करें। 2016 में अमेरिका में हुए चुनावों में रूस के हस्तक्षेप के बारे में पता लगाने के बाद हमने 2017 में नए टूल्स लगाए और कई जाली अकाउंट बंद किए। अब हम दो बड़े कदम उठाने जा रहे हैं।

पैसे देने वाली संस्था का दिखेगा नाम

जकरबर्ग ने कहा कि जो भी विज्ञापनदाता अब राजनीतिक विज्ञापन देना चाहता है, उसे उसका वेरिफिकेशन कराना होगा और इसके लिए ऐडवर्टाइज़र को अपनी लोकेशन और पहचान कन्फर्म करानी होगी। जो भी ऐडवर्टाइज़र इन शर्तों को पूरा करने में असफल रहेगा, उसका विज्ञापन फेसबुक पर नहीं दिखाया जाएगा। इसके अलावा राजनीतिक विज्ञापनों को पैसा देने वाली संस्था का नाम भी उस पर पोस्ट किया जाएगा।

राजनीतिक विज्ञापनों में और ज्यादा पारदर्शिता लाने के लिए एक ऐसा टूल फेसबुक में लगाया जाएगा, जिसके जरिए कोई भी उन सारे राजनीतिक विज्ञापनों को देख सकता है, जो एक पेज पर चल रहे हैं।


कमेंट करें