नेशनल

फरीदाबाद: बुखार के इलाज के दौरान गर्भवती की मौत, अस्पताल ने थमाया 18 लाख का बिल

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
198
| जनवरी 11 , 2018 , 18:05 IST

दिल्ली एनसीआर में अस्पतालों में इलाज के नाम पर लंबे-चौड़े बिल बनाने के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। अस्पतालों की मनमानी से जुड़ा एक और मामला सामने आया है। यह मामला फरीदाबाद के एशियन हॉस्पिटल का है जहां सिर्फ बुखार की बीमारी का बिल 18 लाख रुपये थमा दिया गया।

एक परिवार ने फरीदाबाद के एशियन अस्पताल पर आरोप लगाया है कि उनके परिवार की एक गर्भवती महिला को बुखार था तो वो उसे एशिपयन अस्पताल ले गए। जहां 22 दिन उसका ‌इलाज चला और फिर उसकी मौत हो गई।

इसके बाद अस्पताल ने 22 दिन के इलाज के लिए परिवार को 18 लाख का भारी भरकम बिल थमा दिया। अब परिवार का अस्पताल पर आरोप है कि गर्भवती महिला को मामूली बुखार था लेकिन अस्पताल ने उसे आईसीयू में शिफ्ट कर दिया।

मृतका के चाचा ने बताया कि श्वेता को बुखार था, लेकिन उसे आईसीयू में भर्ती कर दिया गया। डॉक्टरों ने पहले तो टाइफाइड बताया और उसे आईसीयू में भर्ती कर दिया। फिर कहा कि आंतों में इंफेक्शन है। श्वेता के चाचा ने बताया कि डॉक्टरों ने उन्हें ऑपरेशन के लिए तीन लाख रुपये जमा करने के लिए कहा। पीड़ित परिवार ने बताया कि तब तक वे इलाज के नाम पर 10-12 लाख रुपये जमा करा चुके थे। अस्पताल ने उन्हें 18 लाख रुपये का बिल थमाया है।

अस्पताल ने दी सफाई:

वहीं इस पूरे मामले् पर सफाई देते हुए एशियन अस्पताल के क्वालिटी एंड सेफ्टी चेयरमैन डॉक्टर रमेश चांदना ने कहा कि, महिला 32 हफ्ते की गर्भवती थी और उसे 8 से 10 दिन से बुखार था। पहले हमें लगा कि उसे टाइफाइड है और आईसीयू में उसका इलाज शुरू कर दिया। उसका बच्चा बच नहीं सका। हमें पता चला कि उसकी आंत में छेद है। हमने सर्जरी की लेकिन उसे बचा नहीं सके।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें