नेशनल

जांच में हुआ खुलासा: खराब गोला-बारुद की वजह से फटा था होवित्जर तोप

| 0
540
| सितंबर 24 , 2017 , 19:44 IST

राजस्थान के पोखरण में इस माह की शुरुआत में सेना की लंबी दूरी के बेहद हल्के होवित्जर एम-777 तोप के फील्ड परीक्षण के दौरान विस्फोट हुआ था। जिसकी वजह खराब गोला बारूद था। सूत्रों के मुताबिक सेना की शुरूआती जांच में इसका खुलासा हुआ है। इस तोप में उस वक्त विस्फोट हुआ था जब इससे गोला-बारूद दागे जा रहे थे।

शुरुआती जांच में पता चला कि इस तोप में इस्तेमाल किए जा रहे गोला-बारुद की सप्लाई ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड की द्वारा की जा रही थी। बता दें कि 2 सितंबर के दिन पोकरण रेंज में परीक्षण के दौरान होवित्जर एम-777 तोप में विस्फोट हुआ था, जिसके बाद जांच के आदेश दे दिए गए थे। इस घटना के बाद होवित्जर एम-777 तोप पर सवाल उठने लगे थे हालांकि शुरुआती जांच के बाद यह निश्चित हो गया कि खराबी तोप में नहीं बल्कि गोला-बारुद में थी।

खबरों के मुताबिक अमेरिका भारतीय सेना को कुल 145 होवित्जर तोप देंगी। जिसकी सप्लाई मार्च 2019 में शुरु हो जाएगी औऱ मार्च 2021 तक इस सप्लाई के पूरी होने की संभावनाएं है। वहीं अमेरिका मार्च 2019 से हर महीने 5 तोपें भारतीय सेना को देगा। इन तोपों को खरीदने पर कुल 5 हजार करोड़ रुपये का खर्च आएगा।

M777-artillery

बता दें कि 145 तोपों में से 25 तोपें अमेरिका से लाई जाएगी जबकि बाकी की 120 तोपें भारत में ही बनाई जाएगी। दरअसल, यह तोपें बाकी की तोपों के मुकाबले बेहद हल्की होती हैं और इन्हें एक स्थान से दूसरे स्थान तक आसानी से ले जा सकते है। इस तोप की खास बात यह है कि ये 25 किमी तक बेहद सटीक तरीके से और 50 किमी तक अपने टारगेट को निशाना बनाकर तबाह कर सकती है।


author

कमेंट करें