नेशनल

5वीं के छात्र ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा मैम इतनी बड़ी सजा किसी को न दें

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
719
| सितंबर 21 , 2017 , 14:36 IST

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में 5वीं में पढ़ने वाले एक छात्र ने टीचर की सजा से दुखी होकर खुदकुशी कर ली। मरने से पहले छात्र ने सुसाइड नोट में अपनी आखिरी इच्छा में लिखा था कि मेरी मैम से कहें कि इतनी बड़ी सजा किसी को न दें। घर के इकलौते बेटे के खुदकुशी करने से भड़के परिवार के लोगों ने स्कूल जाकर तोडफ़ोड़ की। पिता की तहरीर पर पुलिस ने क्लास टीचर के खिलाफ आत्महत्या के लिए उत्प्रेरित करने का मुकदमा दर्ज किया।

शाहपुर में असुरन चौराहे के पास सेंट एंथोनी स्कूल में पढऩे वाले पांचवी के छात्र नवनीत प्रकाश (12) ने पांच दिन पहले जाहर खा लिया था। कल देर शाम इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। घर वालों ने जब उसकी बैग की तलाशी ली तो उन्हें कथित सुसाइड नोट मिला। नवनीत की क्लास टीचर ने उसे किस तरह की सजा दी थी। ये उसने खुदकुशी से पहले लिखे सुसाइड नोट में भी बयां किया है। जिसे सुनकर हर मां-बाप का कलेजा दर्द से भर आएगा।

‘’पापा, आज 15 सितंबर मेरा पहला एग्जाम था। मेरी मैम क्लास टीचर ने मुझे सवा 9 तक रुलाया और खड़ा रखा, इसलिए क्योंकि वह चापलूसों की बात मानती हैं। उनकी किसी बात का विश्वास मत करिएगा। कल उन्होंने मुझे तीन पीरियड खड़ा रखा। आज मैंने सोच लिया है कि मैं मरने वाला हूं। मेरी आखिरी इच्छा मेरी मैम को किसी बच्चे को इतनी बड़ी सजा न देने को कहें।

अलविदा पापा-मम्पी और दीदी.’’

परिवार के मुताबिक नवनीत पढ़ने में होनहार था। उसकी नजरों में गुरू का स्थान कितना बड़ा था । ये उसने अपनी डायरी में भी लिख रखा था।

हीरों-वीरों का देश है ये

गुरू-वीरों का देश है ये

बुद्ध क्राइस्ट का

महावीर का

ऋषि-मुनि का देश है ये

लेकिन उसकी गुरू ही उसकी जिंदगी की सबसे बड़ी विलेन बन जाएंगी किसी ने नहीं सपने में भी नहीं सोचा होगा।

क्या है पूरा मामला?

शाहपुर के मोहनापुर निवासी रविप्रकाश बापू इंटर कालेज पीपीगंज में शिक्षक हैं। उनका इकलौता बेटा 12 साल का नवनीत प्रकाश शाहपुर स्थित सेन्ट एंथोनी स्कूल में पांचवी कक्षा में पढ़ता था। शाहपुर क्षेत्र के मोहनापुर निवासी रवि प्रकाश दुबे का बेटा नवनीत 15 सितंबर की शाम घर में अकेला था। उसकी मां बाजार गई थी। बड़ी बहन और पिता भी बाहर थे। देर शाम मां बाजार से वापस आईं तो नवनीत एक कमरे में बेहोशी की हालत में पड़ा मिला। उसके मुंह से झाग निकल रहा था। उनके शोर मचाने पर एकत्र हुए लोग उसे मेडिकल कालेज ले गए, जहां कल उसने दम तोड़ दिया। परिवार के लोग शव लेकर घर पहुंचे तो भीड़ लग गई।

इकलौते बेटे की मौत से घर में कोहराम मचा हुआ था। इसी बीच कमरे में सुसाइड नोट मिलने पर लोग भड़क गए। गुस्साए लोग विद्यालय पहुंच गए और तोडफ़ोड़ करने लगे। सूचना पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह से उनको समझा-बुझाकर शांत कराया लेकिन रात 8.30 बजे के आसपास लोगों ने असुरन चौराहे के पास स्कूल के सामने मोहद्दीपुर रोड पर जाम लगा दिया। यह सभी क्लास टीचर को तत्काल गिरफ्तार करने की मांग कर रहे थे। मौके पर पहुंचे पुलिस अधीक्षक नगर विनय कुमार सिंह ने कड़ी कार्रवाई का आश्वासन देकर नौ बजे जाम खत्म कराया।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें