राजनीति

कांग्रेस के 133वें स्थापना दिवस पर बोले राहुल, खतरे में है अंबेडकर का संविधान

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
280
| दिसंबर 28 , 2017 , 20:02 IST

कांग्रेस के 133वें स्थापना दिवस पर आज पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी हेडक्वाटर पहुंचे। यहां उन्होंने सलामी देते हुए पार्टी कार्यकर्ताओं से मुलाकात की है। ये स्थापना दिवस पार्टी के लिए इसलिए खास है क्योंकि पार्टी अध्यक्ष बनने के बाद राहुल ने पहली बार झंडा फहराया है।

स्थापना दिवस कार्यक्रम में राहुल ने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा सच का साथ दिया है, आज के समय में बाबा साहेब अंबेडकर का दिया हुआ संविधान खतरे में है, उस संविधान पर हमला हो रहा है। ये देखना दुखद है। लेकिन हमारा कर्तव्य है कि हम संविधान की रक्षा करें।

राहुल ने बीजेपी पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि बीजेपी लगातार झूठ के साथ आगे बढ़ रही है, बीजेपी की ओर से कांग्रेस के खिलाफ हमले हुए हैं। उन्होंने कहा कि हम भले ही हार जाएं, लेकिन सच का साथ नहीं छोड़ेंगे। राहुल ने कहा कि ये कांग्रेस का दायित्व है कि वे संविधान की रक्षा करें।

उन्होंने केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े के संविधान बदलने संबंधी बयान पर कहा कि बाबा साहेब अंबेडकर ने देश को जो संविधान दिया था उस पर आज खतरा मंडराने लग गया है।

पार्टी मुयालय में आयोजित इस कार्यक्रम में गांधी के अलावा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद तथा दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित सहित कई बड़े नेता मौजूद थे।

बता दें कि 28 दिसंबर 1885 को कांग्रेस की स्थापना की गई थी। कांग्रेस के इतिहास को देखा जाए तो 43 साल तक नेहरू-गांधी परिवार के लोग पार्टी के अध्यक्ष रहे हैं। वहीं देश की सत्ता पर कांग्रेस का दबदबा कायम रहा है, देश की आजादी के 70 सालों में 52 सालों तक कांग्रेस की सरकार रही है।

शुरुआत से लेकर अभी तक कांग्रेस में कई बदलाव होते हुए आए हैं। अब राहुल के अध्यक्ष बनने के बाद कांग्रेस पार्टी में एक बार फिर बड़े बदलावों की संभावना है। सोनिया गांधी रिटायरमेंट के संकेत दे चुकी हैं, मुमकिन है कि पार्टी में युवा चेहरों को तरजीह अधिक मिलेगी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी नई दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय पर चल रहे कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

ये स्थापना दिवस इस बार खास होगा क्योंकि 19 साल बाद पार्टी को राहुल गांधी के तौर पर नया अध्यक्ष मिला है। राहुल कांग्रेस के 60वें अध्यक्ष हैं। वहीं आजादी के बाद की बात करें तो राहुल पार्टी के 19वें अध्यक्ष हैं। उनकी मां सोनिया गांधी ने 19 साल तक पार्टी की कमान संभाले रखी थी।

  • कांग्रेस अध्यक्ष पद को महात्मा गांधी, मोतीलाल नेहरू, मदन मोहन मालवीय, सुभाष चंद्र बोस समेत कुल 59 लोगों ने अबतक संभाला है। राहुल गांधी 60वें अध्यक्ष हैं।

 

  • कांग्रेस अध्यक्ष पद को लेकर पहला मतभेद साल 1939 में सामने आया था, जब सुभाष चंद्र बोस ने इस पद से इस्तीफा दे दिया था।

 

  • आजादी के बाद पार्टी का नेतृत्व करने वाले कुल 18 नेताओं में से 14 नेहरू-गांधी परिवार से नहीं हैं।

 

  • राहुल गांधी नेहरू-गांधी परिवार की 5वीं पीढ़ी के 5वें ऐसे व्यक्ति हैं जो कांग्रेस अध्यक्ष बनने जा रहे हैं।

 

  • आजादी के बाद कांग्रेस अध्यक्ष पद पर नजर डाले तो जवाहरलाल नेहरू ने प्रधानमंत्री रहते समय 5 साल, इंदिरा गांधी- राजीव गांधी ने करीब 5-5 साल और पीवी नरसिंह राव ने भी करीब 4 साल तक इस जिम्मेदारी को संभाला।

 

  • कांग्रेस में लालबहादुर शास्त्री और मनमोहन सिंह दो ऐसे नेता हैं जो प्रधानमंत्री तो बने लेकिन वो पार्टी के अध्यक्ष नहीं बन पाये।

 

  • सोनिया गांधी ने सबसे ज्यादा 19 साल बतौर कांग्रेस अध्यक्ष पद संभाला, वहीं उनकी सास इंदिरा गांधी ने अलग-अलग कार्यकाल में कुल 7 साल इस दायित्व को निभाया है।

 

  • सोनिया गांधी ने साल 1997 में पार्टी की सदस्यता ली थी और साल 1998 में अध्यक्ष बन गईं थी।

author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें