नेशनल

वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की घर में गोली मारकर हत्या

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
531
| सितंबर 6 , 2017 , 09:37 IST

कन्नड़ की वरिष्ठ पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश की मंगलवार को अज्ञात हमलावरों ने उनके निवास पर गोली मारकर हत्या कर दी। गौरी को रात लगभग 8.30 बजे बिल्कुल करीब से गोली मारी गई है, जब वह राजराजेश्वरी नगर में अपने घर के दरवाजे पर खड़ी थीं।

बेंगलुरु पुलिस आयुक्त ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि 4 अज्ञात हमलावरों ने गौरी लंकेश के घर मेंं घुसकर इस घटना को अंजाम दिया है और पुलिस सघनता से उनकी तलाश कर रही है।

उन्होंने बताया कि गौरी के माथे पर तीन गोलियां दागी गईं और जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई। हम घटना की जांच के लिए विशेष टीम गठित करेंगे।

इस घटना के कुछ घंटे पहले तक गौरी ट्विटर और फेसबुक पर एक्टिव थीं। उन्होंने रोहिंग्या मुसलमानों से जुड़ी खबरों के लिंक शेयर किए और कई ट्वीट्स को री-ट्वीट भी किया था। गौरी ने लिखा था, 'हम लोगों में से कुछ लोग फेक पोस्ट शेयर करने की गलती कर देते हैं। चलिए एक्सपोज करने की कोशिश के बजाए इसके प्रति एक-दूसरे को सतर्क किया जाए. शांति बनाए रखिए साथियों।'

गौरी ने आगे लिखा, 'मुझे ऐसा क्यों लगता है कि हम में से कुछ लोग अपने में ही लड़ रहे हैं? हम सभी अपने सबसे दुश्मन को जानते हैं। क्या हम उस पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं?'

कर्नाटक के मुख्ममंत्री सिद्धरमैया ने गौरी लंकेश की हत्या पर दुख जताते हुए कहा कि दोषियों को पता लगाने के लिए तीन पुलिस टीमें बनाई गई हैं। गौरी की हत्या पर दुख जताते हुए कहा कि हमलावरों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने के निर्देश दिए गए हैं। 

वहीं, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी गौरी लंकेश की हत्या पर दुख जताया है।उन्होंने लिखा, "सच को भी खामोश नहीं किया जा सकता। गौरी लंकेश हमारे दिलों में रहती हैं। उनके परिवार को मेरी संवेदना और प्यार। दोषियों को सजा मिलनी चाहिए।''

पत्रकार गौरी लंकेश पर हुए हमले की आरएसएस ने भी आलोचना की है। आरएसएस के क्षेत्रीय प्रचारक वी. नागराज ने घटना पर दुख जताते हुए मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की है।

गौरी लोकप्रिय कन्नड़ टेबलॉयड 'लंकेश पत्रिका' की संपादक थीं। नवंबर, 2016 में उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के खिलाफ एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी, जिस कारण उनके खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर किया गया। इस मामले में उन्हें छह माह जेल की सजा हुई थी।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें