नेशनल

सरकार ने Whatsapp को भड़काऊ और फेक मैसेज को रोकने का दिया आदेश

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2059
| जुलाई 4 , 2018 , 08:31 IST

लगातार हो रही हिंसा में सोशल मीडिया का नाम आना अब प्रचलन सा हो गया है जिसमें व्हाट्सअप का नाम सबसे उपर आता है। व्हाट्सअप पर अफवाहों को फैलाना आसान हो गया है जिसके कारण कई जगहों पर भीड़ ने कई बेगुनाहों को मौत के घाट उतार दिया है। इस स्थिति को गंभीरता से लेते हुए केंद्र सरकार ने मंगलवार को व्हाट्सअप को निर्देश दिया है कि वह 'गैर-जिम्मेदार और विस्फोटक संदेशों' को अपने प्लेटफॉर्म पर फैलने से रोके।

इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना तकनीक मंत्रालय ने व्हाट्सअप को वॉर्निंग देते हुए एक बयान जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि फेसबुक के मालिकाना हक वाली कंपनी 'अपनी जिम्मेदारी और जवाबदेही से बच नहीं सकती।'

व्हाट्सअप को ऐसे वक्त में सरकार की तरफ से चेतावनी दी गई है जब हाल के दिनों में इस पॉप्युलर मेसेजिंग ऐप पर कुछ 'फर्जी' संदेशों के वायरल होने के बाद देश के कई हिस्सों में मॉब लिन्चिंग में बेगुनाह लोगों के मारे जाने की कई घटनाएं सामने आई हैं।

सूचना तकनीक मंत्रालय ने असम, महाराष्ट्र, कर्नाटक, त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल में हुई 'दुर्भाग्यपूर्ण हत्याओं' को 'बेहद दुखद और अफसोसनाक' बताते हुए कहा कि व्हाट्सअप जैसे प्लेटफॉर्म्स का दुरुपयोग कर 'भड़काऊ कॉन्टेंट को बार-बार शेयर करना' गंभीर चिंता की बात है।

इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना तकनीक मंत्रालय ने गैरजिम्मेदार संदेशों और ऐसे प्लेटफॉर्म्स पर उनके सर्कुलेशन को गंभीरता से लिया है। सरकार ने व्हाट्सअप के वरिष्ठ अधिकारियों से अपनी नाराजगी और नाखुशी जाहिर की है और उन्हें सलाह दी गई है कि फर्जी, भड़काऊ और सनसनीखेज संदेशों को सर्कुलेट होने से रोकने के लिए जरूरी कदम उठाए।

सरकार ने कंपनी को निर्देश दिया है कि वह ऐसे संदेशों को अपने प्लेटफॉर्म्स के जरिए फैलने से रोकने के लिए तत्काल कदम उठाए। सरकार ने फेक और भड़काऊ संदेश फैलाने वालों पर भी सख्ती बरतने का संदेश दिया है। केंद्र ने राज्य सरकारों को इस तरह की घटनाओ और भड़काऊ व फर्जी संदेशों को फैलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

इसे भी पढ़ें-: दोस्त का WhatsApp स्टेटस का वीडियो आ गया पसंद, तो ऐसे करें डाउनलोड

पिछले कुछ महीनों में ऐसी कई वारदात हुई हैं, जब फर्जी व्हाट्सअप संदेशों की वजह से भीड़ ने हिंसा की हो। ऐसा ही एक वाकया महाराष्ट्र के धुले जिले के एक गांव में हुआ, जहां गांववालों ने बच्चा चोरी करने वाला समझकर 5 लोगों को पीट-पीटकर मार डाला। पुलिस के मुताबिक, ऐसा अफवाह फैला था कि इलाके में बच्चा चोरों का एक गैंग सक्रिय है।


कमेंट करें