नेशनल

करणी सेना के सामने लाचार दिखीं सरकारें, देश भर में उपद्रव जारी

आशुतोष कुमार राय, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
509
| जनवरी 25 , 2018 , 12:26 IST

आखिरकर संजय लीला भंसाली की बहुप्रतीक्षित फिल्म सिनेमा घरों में उतर गयी है, पर करणी सेना के उपद्रव के आगे पुलिस लाचार दिख रही है। भले ही राज्य सरकारें थिएटरों की सुरक्षा का दावा कर रहीं हों लेकिन उपद्रव के आगे पुलिस भी बेबस दिख रही है।

गुजरात, बिहार, राजस्थान के जयपुर में फिल्म न दिखाए जाने के बावजूद करणी सेना ने जमकर उत्पात किया। गुजरात के आणंद जिले में हाइवे पर टायरों को जलाकर विरोध प्रदर्शन किया गया। जयपुर और उदयपुर में सुरक्षा व्यवस्था के बावजूद प्रदर्शनकारी बाइक्स पर निकलकर खौफ फैलाते नजर आए। बिहार के दरभंगा में भी कुछ जगह प्रदर्शन की खबरें हैं।

बिहार के आरा में करणी सेना समर्थकों ने सड़क पर टायरों को जलाकर विरोध प्रदर्शन किया। भोजपुर में भी सड़क पर आगजनी और तोड़फोड़ की गई। सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने जगह-जगह आगजनी कर तोड़फोड़ मचाया। घटना में कई लोग जख्मी हो गए। लाचार पुलिस बेबस तमाशा देखती रही।

मध्य प्रदेश के उज्जैन में सभी सिनेमाघरों के बाहर भारी सुरक्षा के इंतजाम किए गए हैं। सुबह का कोई भी शो नहीं हुआ। करणी सेना के सदस्य भी थिएटर पहुंचकर जायजा ले रहे है।

गुजरात के कच्छ में सिनेमाघर मालिकों ने बंद का समर्थन करते हुए सिनेमाहाल बंद रखा है। गुजरात के खेडा में करणी सेना के बंद को व्यापारियों ने सपोर्ट किया है।

बिहार के मोतीहारी में करणी सेना और सवर्ण सेना ने हाइवे ब्लॉक कर दिया. बिगड़ते हालात के मद्देनजर सिनेमा मालिक ने दो दिनों तक फिल्म नहीं दिखाने का फैसला लिया है। हरियाणा में सोनीपत के सभी सिनेमाघरों के आस-पास धारा 144 लगाई गई है।

यूपी के ललितपुर, मिर्जापुर और जौनपुर में में प्रदर्शन के मद्देनजर सिनेमाघरों ने फिल्म स्क्रीन नहीं करने का फैसला लिया गया है। मुगलसराय में महज 10 प्रतिशत दर्शक फिल्म देखने पहुंचे। हिंदू संगठनों और क्षत्रिय महासभा के भारी विरोध के चलते यूपी के जौनपुर में माहौल तनावपूर्ण है।

पद्मावत की रिलीज के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन से सिनेमाघरों के मालिक भी डरे हुए हैं। जिसका उदाहरण मुंबई के स्टर्लिंग सिनेमा में देखने को मिला।

जहां फर्स्ट शो के लिए सिर्फ 10% ही टिकटों की बुकिंग हुई है। जम्मू के 6 में से 1 सिनेमाघर में पद्मावत रिलीज हुई है। बुधवार को कुछ उपद्रवी युवकों ने इंदिरा थियेटर का कैश काउंटर में आग लगाई और शीशे तोडे़।

यूपी के गाजियाबाद में पद्मावत की रिलीज के खिलाफ प्रदर्शनकारियों ने रोडवेज की बस में तोड़फोड़ की। बीती देर रात कड़कड़ मॉडल गांव के सामने उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की बस में आगजनी और तोड़फोड़ की कोशिश की गई। पुलिस ने 8 लोगों को हिरासत में लिया है।

दिग्विजय सिंह ने भी किया विरोध-

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने पद्मावत का विरोध किया है। कहा कि अगर कोई फिल्म इतिहास से अलग है और किसी धर्म और जाति की भावनाओं को आहत करती है. तो ऐसे में बेहतर होगा कि इन फिल्मों को बनाने से बचा जाए।

फिल्म पद्मावत का विरोध इस हद तक बढ़ गया है कि बुधवार को गुरुग्राम में उपद्रवियों ने पहले रोडवेज की एक बस को फूंक दिया। फिर सोहना रोड पर उपद्रवियों ने जीडी गोयनका स्कूल की बच्चों से भरी बस पर पथराव किया। बच्चों ने सीट के नीचे छिपकर अपनी जान बचाई।

प्रकाश राज ने किया विरोध-

प्रकाश राज ने बुधवार को स्कूल बस में हुए हमले की घोर निंदा की है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, मेरे देश के बच्चे डर के माहौल में जी रहे हैं।

क्योंकि करणी सेना ने स्कूल बस पर हमला किया है। जनता द्वारा चुनी गई सरकार का ध्यान कहीं और है, वहीं विरोधी पार्टी डिप्लोमेटिकली रिएक्ट कर रही है। क्या हम सभी के बच्चों की सुरक्षा के लिए शर्मिंदा नहीं हैं? सब कुछ बस वोट बैंक के लिए।

यहां देखें क्या कहा करणी सेना प्रमुख ने -:


कमेंट करें