राजनीति

मोदी ने 2 टॉरपीडो बम मारे, GST और नोटबंदी ने इकोनॉमी को किया ध्वस्त: राहुल

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
706
| अक्टूबर 30 , 2017 , 14:45 IST

राहुल गांधी ने सोमवार को नरेंद्र मोदी को लेकर तंज कसा। कांग्रेस वाइस प्रेसिडेंट ने जीएसटी और नोटबंदी को लेकर सरकार पर सवाल दागे। राहुल ने कहा- जीएसटी एक अच्छा आईडिया है। सरकार ने इसे गलत तरीके से इम्प्लीमेंट किया। इससे नुकसान हुआ। मोदी ने जी हिंदुस्तान की अर्थव्यवस्था पर दो टॉरपीडो मारे। पहला टॉरपीडो नोटबंदी और दूसरा जीएसटी।

और क्या कहा राहुल ने

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने पार्टी की एक मीटिंग के बाद मीडिया से बात की। हालांकि, उन्होंने किसी सवाल का जवाब नहीं दिया। सिर्फ अपनी बात कहकर चल दिए। राहुल ने कहा- मैं मोदी जी को धन्यवाद कहना चाहता हूं कि उन्होंने इस प्रकार से बिना सोचे समझे 8 नवंबर को ये सेलिब्रेशन किए। उन्हें समझना चाहिए कि देश को कितना दुख होता है। पीएम को देश के दिल में जो दुख होता है। उसे समझना चाहिए। हिंदुस्तान के पीएम ने देश को जो चोट मारी है उसकी पीड़ा सममझनी चाहिए।

इसके बाद उन्होंने कहा- जीएसटी एक अच्छा आईडिया है। सरकार ने इसे गलत तरीके से इम्प्लीमेंट किया। इससे नुकसान हुआ। मोदी ने जी हिंदुस्तान की अर्थव्यवस्था पर दो टॉरपीडो मारे। पहला टॉरपीडो नोटबंदी। दूसरा जीएसटी। बता दें कि टॉरपीडो एक वेपन यानी हथियार होता है जो आमतौर पर सबमरीन या बड़े शिप को तबाह करने के लिए नेवी इस्तेमाल करती है।

जीएसटी को बताया था गब्बर सिंह टैक्स

राहुल गांधी ने 24 अक्टूबर को भी जीएसटी को लेकर केंद्र सरकार पर फिर निशाना साधा था। उन्होंने बताया कि मोदी सरकार के जीएसटी का मतलब: गब्बर सिंह टैक्स= ये कमाई मुझे दे दे.. है। अहमदाबाद में एक रैली में उन्होंने केंद्र सरकार पर तंज कसते हुए कहा था, “इनका जो GST है, ये GST नहीं, ये है गब्बर सिंह टैक्स है।

राहुल गांधी ने ट्वीट कर समझाया था कि कांग्रेस के और मोदी सरकार के जीएसटी में क्या फर्क है। उन्होंने बताया- "कांग्रेस जीएसटी = जेन्यूइन सिम्पल टैक्स। मोदीजी जीएसटी = गब्बर सिंह टैक्स = ये कमाई मुझे दे दे।"

कांग्रेस की देन है जीएसटी

राहुल ने कहा था- " जीएसटी कांग्रेस पार्टी की देन है। पार्टी इसे पूरे देश में एक टैक्स की कॉन्सेप्ट के तहत लायी थी। इसे सरल रखना चाहती थी। 18% की लिमिट में। पर इनकी जो जीएसटी है वह जीएसटी यानी गब्बरसिंह टैक्स है। इससे देश को नुकसान हो रहा है।

मोदी जी ने देश पर पहले ही नोटबंदी की कुल्हाडी चला कर इकोनॉमी को चौपट कर दिया था और दूसरी कुल्हाडी जीएसटी की चला दी। हमने उन्हें इसे सरल रखने की गुजारिश की थी और इसे धीरे से लागू करने को कहा था। मै अब भी कह रहा हूं 28% की लिमिट, महीने में तीन फार्म भरने वाली इस जीएसटी को बदलना पडेगा। इसे सरल बनाना पडेगा। यह करना ही पडेगा नहीं तो देश को जबर्दस्त नुकसान होगा।"

पेट्रोलियम मंत्री ने दिया था राहुल को जवाब

गुड्स एंड सर्विस टैक्स (GST) पर जारी बयानबाजी के बीच पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने इसकी तुलना नए जूतों से की थी। प्रधान ने कहा था, ''नया जूता भी तीन दिन काटता है, फिर चौथे दिन सैटल होता है। ऐसे ही जीएसटी भी कुछ दिनों में बिजनेस फील्ड का हिस्सा बन जाएगा।'' इस दौरान उन्होंने राहुल गांधी के जीएसटी को 'गब्बर सिंह टैक्स' कहने को असभ्य बताया। भगवान राहुल को सद्बुद्धि दे...।"


कमेंट करें