नेशनल

चीन सीमा पर सैनिकों की तैनाती बढ़ा रहा है भारत, 17000 फीट से दुश्मन पर है पैनी नज़र

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
3074
| मार्च 31 , 2018 , 18:00 IST

डोकलाम विवाद के बाद भारत ने चीन से सटी अरुणाचल प्रदेश की सीमा पर सेना की तैनाती बढ़ा दी है। सेना के एक बड़े हिस्से को रणनीतिक तौर पर संवेदनशील माने जाने वाले दिबांग, दाउ देलाइ और लोहित घाटी में तैनात किया गया है। सेना ने चीन बॉर्डर पर विजिलेंस भी बढ़ा दिया है। साल 2017 में डोकलाम में चीन और भारत की सेनाएं 72 दिनों तक आमने सामने रही थीं। 

माउंटेन विजिलेंस पर है सेना का ख़ास ध्यान 

भारतीय सेना अरुणाचल में चीन पर नजर रखने के लिए हेलिकॉप्टर भी भेज रही है। अधिकारियों ने बताया कि सेनाएं दिबांग, दाउ देलाइ और लोहित घाटियों के खतरनाक इलाकों पर मौजूदगी बढ़ाना चाहती हैं। इनमें 17 हजार फीट ऊंची बर्फीली पहाड़ियां और घाटी की गहराई में स्थित नदियां भी शामिल हैं। चीन हमेशा ही इन इलाकों को लेकर भारत पर दबाव बनाता रहा है।


“सेना अब अपनी लंबी दूरी की गश्तों (लॉन्ग रेंज पैट्रोल्स) को बढ़ाने पर ध्यान दे रही है। इसमें छोटी-छोटी टुकड़ियां 15 से 30 दिन के लिए गश्त पर भेजी जाती हैं।”

अधिकारी ने बताया कि भारत ये कदम लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) की पवित्रता बनाए रखने के लिए उठाया है। बता दें कि भारत और चीन बॉर्डर 1962 के बाद से आज तक एक भी गोली नहीं चली है। अधिकारी ने नाम ना बताने की शर्त पर कहा कि सेना ने भारत, चीन और म्यांमार ट्राई-जंक्शन जैसे अहम रणनीतिक इलाकों में भी सेना तैनात की है।

भारतीय सेना के मुताबिक चीन से सटी सीमा पर भारत को भी ठीक उसी तरह से इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ाना पड़ेगा जैसा चीन डोकलाम में बढ़ा रहा है। 

Capture


कमेंट करें