नेशनल

बातचीत के दावे को भारत ने किया खारिज, कहा- PM ने केवल इमरान को बधाई पत्र भेजा

icon कुलदीप सिंह | 0
2014
| अगस्त 20 , 2018 , 17:04 IST

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कश्मीर मुद्दे के साथ ही भारत के साथ बातचीत का राग अलापा है। कुरैशी ने विदेश मंत्री के रूप में शपथ लेने के बाद सोमवार को अपने पहले प्रेस कान्फ्रेंस में दावा किया कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान को पत्र भेजा है, और बातचीत की पेशकश की है।

वहीं भारत के विदेश मंत्रालय के सूत्रों ने पाकिस्तान के विदेश मंत्री कुरैशी के इन दावों को खारिज किया है। भारतीय विदेश मंत्रालय के सूत्रों ने कहा है कि पाकिस्तान के नये चुने गये प्रधानमंत्री इमरान खान को बधाई पत्र लिखा था, उसमें बातचीत के लिए कोई नया प्रस्ताव नहीं था।।

दरअसल सोमवार को पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि 'भारत के साथ लगातार बातचीत की आवश्यकता है. हम पड़ोसी हैं. हम दोनों की बीच लंबे समय लंबित मुद्दे हैं। इन समस्याओं के बारे में हम दोनों को पता है। लेकिन बातचीत में शामिल होने के अलावा हमारे पास कोई दूसरा रास्ता नहीं है।'

पाकिस्तान के नए विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने आगे कहा कि भारत और पाकिस्ता_न को यथार्थवादी दृष्टिकोण अपनाते हुए आगे बढ़ना चाहिए। साथ ही उन्हों्ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पीएम इमरान खान को पत्र लिखकर दोनों देशों के बीच बातचीत शुरू करने के संकेत दिए हैं।

इसके साथ ही कुरैशी ने कहा कि दोनों देशों के बीच जो मसले हैं वो पेचीदा हैं, और उन्हेंr हल करने में कुछ समस्याीएं आ सकती हैं. लेकिन फिर भी हमें साथ आना चाहिए. हमें यह बात स्वी कार कर लेनी चाहिए कि दोनों ही देश समस्याहओं से जूझ रहे हैं. साथ ही इस सच्चाई को भी मान लेना चाहिए कि कश्मी र एक सच्चासई है। इस्लाहमाबाद समझौता हमारे देश के इतिहास का एक हिस्सा है'।

बता दें कि पाकिस्तान के 22वें प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेने के बाद इमरान खान ने रविवार को देश के नाम अपने पहले संबोधन में साफ तौर पर कहा था कि उनकी सरकार नेशनल एक्शन प्लान के तहत आतंकवाद से लड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी।


author
कुलदीप सिंह

Executive Editor - News World India. Follow me on twitter - @KuldeepSingBais

कमेंट करें