नेशनल

इंस्टाग्राम पर तेजी से पॉपुलर हो रहा है blouse free saree कैम्पेन

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
1818
| अक्टूबर 18 , 2017 , 16:44 IST

सोशल मीडिया पर इन दिनों महिलाओं की बिना ब्लाउज के साड़ी पहने कुछ फोटोज वायरल हो रही हैं। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि सोशल साइट इंस्टाग्राम पर साड़ी प्रेमियों ने इस कैम्पेन को चलाया है। जिसे ‘ब्लाउज फ्री साड़ी’ नाम दिया गया है। इस कैम्पेन में कई महिलाएं हिस्सा ले चुकी हैं। 

 

A post shared by Red Earth / 1100 Walks (@saree.man) on

मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा किया जा रहा है कि इंस्टाग्राम पर चलाऐ गए कैम्पेन ‘ब्लाउज फ्री साड़ी’ तहत महिलाएं जोर- शोर से हिस्सा ले रही हैं। इस कैम्पेन में वे बिना ब्लाउज के साड़ी में अपनी फोटोज शेयर कर रही हैं

 इंस्टाग्राम पर यह अकाउंट saree.man के नाम से है। इस पर अब तक 1 हजार से ज्यादा पोस्ट की जा चुकी हैं। साथ ही, इसे साढ़े 6 हजार से ज्यादा लोग फॉलो भी कर चुके हैं।

इस अकाउंट पर जाकर देखा जाए तो पता चलता है कि ये अकाउंट दरअसल साड़ी पहनने के पारंपरिक भारतीय के साथ ही नए तरीकों को प्रमोट करने के लिए बनाया गया है। जिसमें महिलाएं अलग-अलग तरीके से साड़ी पहनकर अपनी फोटोज शेयर कर रही हैं। जिसमें बिना पेटीकोट और ब्लाउज के साड़ी पहनने के ड्रेसिंग सेंस को भी बताया जा रहा है। हालांकि, इस अकाउंट पर बिना ब्लाउज के साड़ी पहनी महिलाओं की फोटोज को ज्यादा तवज्जो दी जा रही है।

बता दें कि भारत में लंबे समय से बिना सिले हुए कपड़े को पवित्र मानने की एक परंपरा रही है। आज भी कई मंदिरों में पूजापाठ के समय इस तरह के परिधान पहन कर कर्मकांड किए जाते हैं। पुरुषों की धोती की तरह ही महिलाओं की साड़ी एक ऐसा भारतीय पहनावा है जिसे सिला नहीं जाता है।

 

Announcing the winners of the no blouse challenge ! --- We were going to do a lucky draw but looking at the entries we felt that we had to represent various aspects that people had covered in their posts. So forgive us but we loved all your contributions and this is just a flavour of some of the aspects we want to highlight.... ---- @sareesandstories wins for simplicity.... @sharanya_manivannan for conviction... @oorja.revivestyle for style.... Please DM us your India addresses ladies and we shall send you our favourite Narayanpet cotton Handlooms over... Thank you @thiviyahnathan @priyakadapashah @pikeywho @msppj @ammishatshah @sareesandstories @misotini @kiransawhney @stajo12 @plumptopretty @pleatsnpallu @sareeonmovement @sharanya_manivannan @oorja.revivestyle @urban_sari @dtanaya @surekhap @surisavitha @travelista_in_saree @smehta206 @atambrahmgirl for participating and spreading the idea in various ways. I would like to submit that this idea is not over but has just started so please keep posting your no blouse pictures with the tag #booblouse #jaisaree KEEP THEM COMING! #redearth #sareeman #saree #sari #lovesaree #design #textiles #sarees #sareenotsorry #cottoniscool #indianfashion #fashion #india #isupporthandloom #handloom #handwoven #iwearhandloom #weaving #weaves #incredibleindia #sareefestival

A post shared by Red Earth / 1100 Walks (@saree.man) on

आज से करीब 150 साल पहले कोलोनियल प्रभाव के चलते धीरे-धीरे साड़ी के साथ ब्लाउज़ और पेटीकोट पहनना अनिवार्य हो गया. उससे पहले महिलाओं के साड़ी पहनने का तरीका अलग था. उस तरीके में बिना ब्लाउज के साड़ी पहनी जाती थी. अगर आपने गौर किया हो को ब्लाउज और पेटीकोट दोनों ही अंग्रेजी शब्द हैं.


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें