खेल

निदास ट्रॉफी के फाइनल में हीरो बनने का चांस था, मैच को भूल नहीं पा रहा हूं: विजय शंकर

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1168
| मार्च 21 , 2018 , 17:52 IST

बांग्लादेश के साथ निदहास ट्रॉफी के फाइनल में उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर पाने से टीम इंडिया के ऑलराउंडर विजय शंकर निराश हैं। सोशल मीडिया में भी उनकी जमकर आलोचना हो रही है और वह खुद भी गम में हैं।

शंकर ने एक इंटरव्यू में कहा, ''मेरे पास उस मैच में हीरो बनने का चांस था। मैं बड़े शॉट लगाना चाह रहा था, लेकिन तब मुझे स्ट्राइक रोटेट करनी चाहिए थी। ट्राफी जीतने पर हर कोई खुश था और मैं निराश। उस मैच को भूल नहीं पा रहा हूं।''

विजय शंकर ने बताया कि इस मैच पर उनके माता-पिता और दोस्तों ने उन्हें कुछ भी नहीं कहा क्योंकि वह लोग जानते हैं कि विजय किस हालत से गुजर रहें हैं। फाइनल के एक खराब दिन ने उनके उस प्रदर्शन पर पानी फेर दिया, जो उन्होंने सीरीज में गेंद के साथ किया था।

शंकर ने कहा कि वास्तव में वह मेरे लिए एक खराब दिन था, लेकिन इसे भूल पाना मेरे लिए मुश्किल हो रहा है। सोशल मीडिया पर हो रही आलोचना पर शंकर ने कहा कि मैं इसे समझ सकता हूं, अगर यही मैच मैंने जिता दिया होता तो यही सोशल मीडिया मेरा गुणगान कर रहा होता। यह क्रिकेट का हिस्सा है, लेकिन यह भी सच है कि मैं मौके पर उचित प्रदर्शन नहीं कर सका।

आपको बता दें कि शंकर भारतीय पारी के 17वें ओवर में स्ट्राइक पर थे और इस ओवर में सिर्फ एक रन बना जिससे टीम इंडिया पर प्रेशर बढ़ गया था। कप्तान रोहित शर्मा ने विजय शंकर को दिनेश कार्तिक से पहले बल्लेबाज़ी करने भेज़ा लेकिन उन्होंने 19 गेंदों पर केवल 29 रन बनाए और वहीं दिनेश कार्तिक 8 गेंदों पर नाबाद 29 रन ठोककर बहुत बड़े हीरो बन गए। जिससे विजय क्रिकेटप्रेमियों के निशाने पर आ गए हैं।


कमेंट करें