नेशनल

अरूणाचल से खदेड़ी गई चीनी सेना! भड़का चीन, कहा- बिगड़ सकते हैं हालात

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
506
| जनवरी 15 , 2018 , 18:28 IST

आर्मी चीफ बिपिन रावत के बयान से चीन भड़क गया है। चीन का कहना है कि जनरल का बयान दोनों देशों के बीच तनाव को और बढ़ाएगा। चीन ने आरोप लगाया कि ऐसे बयानों से सीमा पर हालात और तनावपूर्ण होंगे।

इंडियन आर्मी का दावा- अरुणाचल से खदेड़ा चीनी सेना

उधर, पिछले दिनों अरुणाचल प्रदेश के तूतिंग में चीनी सैनिकों की घुसपैठ के बाद इंडियन आर्मी ने सोमवार को कहा कि हमारे सैनिक पूरी तरह से तैयार हैं। उम्मीद है कि पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ऑफ चाइना के जवान आगे कहीं पर भी ऐसी गलती करने की कोशिश नहीं करेगी। यहां चीन की रोड बनाने वाली टीम भारतीय इलाके में आई तो हमारे जवानों ने उन्हें वापस भेज दिया। इसके बाद बातचीत कर सामान और मशीनें भी उन्हें लौटा दीं। सीमा पर जवानों का मूवमेंट बढ़ाने के लिए ब्रह्मपुत्र नदी के आसपास इन्फ्रास्ट्रक्चर का काम तेजी से हो रहा है। बता दें कि पिछले साल जुलाई से अगस्त तक में सिक्किम सेक्टर के डोकलाम में दोनों देशों की सेनाएं 74 दिन तक आमने-सामने रही थीं।

Lu kang

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता का बयान

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने जनरल बिपिन रावत के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि बीते एक साल में भारत और चीन के संबंधों में काफी उथल-पुथल रही है। पिछले साल भारत-चीन के रिश्तों ने कुछ उतार-चढ़ाव देखे, लेकिन पिछले साल सितंबर में ब्रिक्स सम्मेलन के इतर चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुलाकात में रिश्तों को फिर से पटरी पर लाने के लिए उनमें आम राय बनी थी।

Also Read: आर्मी चीफ के सेना वापसी वाले बयान पर बोला चीन- डोकलाम हमारा, सेना अभी भी मौजूद

चीनी सैनिक तूतिंग से भाग खड़े हुए

ईस्टर्न कमांड के ऑफिसर कमांडिंग ले. जनरल अभय कृष्णा ने आर्मी डे के मौके पर बताया कि चीनी आर्मी की एक टीम अरुणाचल के पास तूतिंग में रोड बनान रही थी। जानकारी मिलते ही हमारे सैनिक वहीं पहुंचे और चीनी सैनिकों से बात कर उन्हें वापस लौटा दिया। उन्होंने कहा, ''हमारी सेना पूरी तरह से तैयार है। हमारे सैनिक तूतिंग में मौजूद थे। वे (चीनी सैनिक) उस इलाके से सामान छोड़कर भाग खड़े हुए। उम्मीद है कि चीन दोबारा ऐसी गलती नहीं करेगा।'

क्या भारत ने रोड बनाने वाला सामान और मशीनें लौटाईं

ले. जनरल कृष्णा ने कहा, ''भारत एक मैच्योर देश है। इसलिए हमने कुछ दिन बाद बातचीत कर रोड बनाने वाली उन्हें मशीनें लौटा दीं। इस दौरान चीनी सैनिकों को बताया कि ये नियंत्रण रेखा है और यहां से भारतीय सीमा शुरू हो जाती है, आप इसे क्रास नहीं कर सकते हैं। इसके बाद चीनी सैनिकों ने गलती के लिए माफी मांगी और कहा कि यह भूलवश हुआ है, हम आगे से ऐसा नहीं करेंगे।''

बिपिन रावत ने कहा था- चीन मजबूत तो भारत भी कमजोर नहीं

दो दिन पहले ही जनरल बिपिन रावत ने कहा था कि भारत को पाकिस्तान के साथ लगती सीमा के साथ-साथ पूर्वी सीमा पर भी ध्यान देने की जरूरत है। जनरल ने कहा था कि चीन अगर मजबूत है तो भारत भी अब कमजोर नहीं है। भारत अपनी सीमा पर किसी भी देश को अतिक्रमण नहीं करने देगा। अब हालात 1962 जैसे नहीं है। हर क्षेत्र में भारतीय सेना की ताकत बढ़ी है। रावत ने यह भी कहा था कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास बीजिंग की ओर से दबाव बनाया जा रहा है।

 


कमेंट करें