नेशनल

रेल हादसों पर सरकार की बड़ी पहल, अब रेल ट्रैक निरीक्षण ट्रालियों में लगेगा GPS

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
1290
| सितंबर 9 , 2017 , 15:54 IST

ट्रेन के पटरी से उतरने की घटनाओं को देखते हुए अब रेलवे ने ट्रैक की जांच करने वाली ट्रॉलियों को जीपीएस से लैस करने का फैसला किया है। यह फैसला इसलिए किया गया है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि ट्रॉली के जरिए ट्रैक के हर हिस्से की जांच हो।

इस संबंध में बोर्ड ने छह सितंबर को सभी जोनल रेलवे को एक पत्र लिखा है। पत्र में रेलवे बोर्ड ने एक महीने के भीतर जीपीएस ट्रैकर की प्रक्रिया पूरी करने को कहा है।
पत्र में लिखा है, 'बोर्ड ने फैसला किया है कि हाथ से खींची जाने वाली सभी ट्रालियों में संख्या दर्ज और जीपीएस ट्रैकर लगाए जाने चाहिए, ताकि ट्रैक के सुरक्षा निरीक्षण की प्रभावी निगरानी हो सके। यह काम एक महीने के भीतर पूरा हो जाना चाहिए।'

 

पत्र में यह भी कहा गया है कि ट्रैकिंग प्रणाली का रिकॉर्ड रखने के लिए मंडल अभियांत्रिकी संचालन केंद्रों में एक कंप्यूटर भी लगाया जाए।

आपको बता दें कि अब तक तो सिर्फ रेल कर्मचारी ही अपना ब्यौरा भरकर देते थे कि उन्होंने ट्रैक की जांच कर ली है लेकिन अब रेलवे ने उनकी ट्रॉली में ही जीपीएस लगाने का फैसला किया है। जीपीएस के जरिए रेलवे यह पता लगा सकेगी कि ट्रैक पर ट्राली लेकर यह जांच की गई या नहीं। जीपीएस के जरिए यह भी पता रहेगा कि कौन सी ट्रॉली किस वक्त कहां पर थी। ऐसे में बैठे बिठाए ही पट्रोलिंग करने की कागजी कार्रवाई को रोका जा सकेगा।

पिछले महीने कई रेलगाड़ियों के पटरी से उतरने की घटनाओं की पृष्ठभूमि में यह आदेश आया है। इन दुर्घटनाओं का असर गत रविवार को हुए कैबिनेट में फेरबदल में दिखा। जिसमें सुरेश प्रभु की जगह पीयूष गोयल को रेल मंत्रालय की जिम्मेदारी दे दी गई।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें