बिज़नेस

अर्थव्यवस्था को झटका, खुदरा महंगाई दर बढ़कर हुई 5%, औद्योगिक उत्पादन भी गिरा

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1907
| जुलाई 12 , 2018 , 20:32 IST

भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था को दोतरफा झटका लगा है। जून महीने में खुदरा महंगाई दर 5 फीसदी के पार चली गई है। वहीं औद्योगिक उत्पादन में गिरावट देखने को मिली है। औद्योगिक उत्पादन में गिरकर 3.2 फीसदी पर पहुंच गई है। केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) की तरफ से जारी आंकड़ों के मुताबिक जून महीने में खुदरा महंगाई दर 5 फीसदी पर पहुंच गई। जोकि पांच महीने में सबसे ज्‍यादा है। उपभोक्‍ता मूल्‍य सूचकांक (CPI) आधारित खुदरा महंगाई मई में 4.87 फीसदी थी। जो पिछले चार महीनों में सबसे अधिक थी। अप्रैल में खुदरा महंगाई दर 4.58 फीसदी थी। वहीं, जून 2017 में खुदरा महंगाई 1.46 के स्‍तर पर दर्ज की गई थी।

लगातार बढ़ रही है महंगाई दर

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी और फिर गिरावट के बाद भी महंगाई दर में उछाल देखने को मिला। हालांकि इनकी कीमतों में केवल चार दिन गिरावट रही। 26 जून से पेट्रोल-डीजल के दाम गिरना शुरू हुए थे, उससे पहले इनमें लगातार तेजी का दौर बना हुआ था। 

मई में भी ज्यादा थे फल-सब्जियों के दाम

मई महीने में सब्जियों से जुड़ी महंगाई दर 7.29 फीसदी से बढ़कर 8.4 फीसदी हो गई थी। वहीं दालों की महंगाई दर 2.56 फीसदी से बढ़कर 2.78 फीसदी रही थी। केंद्र सरकार की तरफ से आंकड़ों के मुताबिक मई में औद्योगिक उत्पादन दर गिरकर 3.2 फीसदी रह गया। यह अप्रैल में 4.9 फीसदी था।  
 Market

RBI के सामने महंगाई 4% रखने का लक्ष्‍य

महंगाई में बढ़ोत्‍तरी को देखते हुए रिजर्व बैंक अगली मौद्रिक नीति समीक्षा में ब्‍याज दरों पर अहम फैसला ले सकता है। रिजर्व बैंक ने ब्‍याज दरों पर फैसला करने के लिए महंगाई का लक्ष्‍य 4 फीसदी पर तय किया है। इसमें 2 फीसदी कम या ज्‍यादा की गुंजाइश है। रिजर्व बैंक के गवर्नर की अध्‍यक्षता में मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी की बैठक इस महीने के आखिर में 30 जुलाई को शुरू होगी। यह बैठक तीन तक चलेगी। 1 अगस्‍त को तीसरी बाय मंथली मौद्रिक नीति का ऐलान होगा।


कमेंट करें