नेशनल

जम्‍मू कश्‍मीर: आतंकवादियों ने बनाया पुलिस को निशाना, ग्रेनेड के हमले में जवान शहीद

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1426
| सितंबर 30 , 2018 , 08:51 IST

 जम्मू एवं कश्मीर के शोपियां जिले में रविवार को पुलिस थाने पर किए गए आतंकवादी हमले के दौरान एक पुलिसकर्मी शहीद हो गया। पुलिस सूूत्रों के मुताबिक, रविवार सुबह आतंकवादियों ने पुलिस थाने पर ग्रेनेड फेंका और उसके बाद अंधाधुंध गोलीबारी करनी शुरू कर दी।

सूत्रों के मुताबिक, "इस हमले में गार्ड पोस्ट पर तैनात कांस्टेबल गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां उसने दम तोड़ दिया।"। हमले के बाद आतंवकादी फरार हो गए। सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेर लिया है और तलाशी अभियान चलाया जा रहा है। बताया जा रहा है कि ये आतंकवादी इसी इलाके में छिपे हुए हैं।

इससे पहले तंगधार में भारतीय सेना ने आतंकियों द्धारा घुसपैठ की कोशिश को नाकाम किया। आतंकी पाकिस्तान सेना की ओर से फायरिंग की आड़ में घुसपैठ की कोशिश कर रहे थे। पाकिस्तान सेना की फायरिंग का भारतीय सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया।

बता दें कि आतंकी लगातार सुरक्षाबलों को निशाना बनाते हुए हमला कर रहे हैं। हाल ही में भारतीय सेना की ओर से पाकिस्तान के खिलाफ की गई सर्जिकल स्ट्राइक में शामिल रहा एक जवान भी तंगधार में शहीद हो गया था। शहीद जवान संदीप सिंह तंगधार सेक्टर में सेना के एक ऑपरेशन में काम कर रहे थे।

इससे पहले गुरुवार को आंतकवाद के खिलाफ चार अलग- अलग अभियान में एक सैनिक शहीद हो गया था और हिज्‍बुल मुजाहिदीन तथा लश्कर-ए-तैयबा के तीन आंतकवादी मारे गए थे। इन अभियानों में कुल मिला कर छह लोग मारे गए थे। अनंतनाग जिले के काजीगुंड में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद सुरक्षा बलों ने तड़के घेराबंदी और तलाशी अभियान चलाया था।

अभियान के दौरान आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई। जिसमें एक स्थानीय आतंकवादी आसिफ मलिक ढेर हो गया। वह लश्कर का कमांडर था। मुठभेड़ में 19 राष्ट्रीय रायफल्स के जवान हैप्पी सिंह शहीद हो गए। आंतकवादी मलिक सुरक्षा बलों पर हुए अनेक हमलों में शामिल था जिसमें इस साल सीआरपीएफ के जवानों की हत्या भी शामिल था।

मुठभेड़ स्थल से अनेक हथियार और गोलियां बरामद हुई हैं। अधिकारी ने बताया कि बड़गाम जिले के पनजान में मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए। मारे गए आतंकवादियों की पहचान हिज्‍बुल मुजाहिदीन के शिराज अहमद भट्ट और इरफान अहमद डार के तौर पर की गई है। उन्होंने बताया कि डार कुछ माह पहले पुलिस बल छोड़ने से पहले एसपीओ था।


कमेंट करें