नेशनल

जज विवाद: येचुरी ने कहा-CJI के खिलाफ महाभियोग लाने पर विपक्ष करे चर्चा

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
294
| जनवरी 23 , 2018 , 18:35 IST

सुप्रीम कोर्ट के जजों के विवाद पर माकपा नेता सीताराम येचुरी ने कहा कि यह मुद्दा सुलझता नहीं दिख रहा है। उन्होंने आगे कहा कि हम अपोजिशन से इस मामले पर बात कर रहे हैं कि क्या सीजेआई के खिलाफ बजट सेशन में महाभियोग लाया जा सकता है? बता दें प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले चारों जज और सीजेआई के बीच पिछले दिनों ही मुलाकात हो चुकी है। जिसके बाद अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने मसला हल होने का दावा भी किया था।

जानकारी के लिए बता दें कि 12 जनवरी को जस्टिस चेलमेश्वर, जस्टिस कुरियन जोसेफ, जस्टिस रंजन गोगोई और जस्टिस मदन बी लोकुर ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया के कामकाज के तरीकों पर सवाल उठाए थे। बता दें सीपीएम नेता सीताराम येचुरी ने जजों के विवाद पर कहा, ''अभी संकट खत्म होता नजर नहीं आ रहा है ऐसे में कार्यपालिका को इसमें दखल देने का वक्त आ चूका है।

इस मामले में उन्होंने आगे कहा कि हम अपोजिशन पार्टियों से बजट सेशन में चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव लाने की संभावनाओं पर चर्चा कर रहे हैं। बता दें इस विवाद पर कांग्रेस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि जजों का इस तरह मीडिया के सामने आना बड़ा गंभीर मसला है। इसके पीछे की वजहों को जानने की जरूरत है क्योंकि जो मुद्दे उठाए गए हैं वह बहुत गंभीर थे।

जानकारी के लिए बता दें सुप्रीम कोर्ट में जजों के विवाद को सुलझाने के लिए बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने जजों से मीटिंग की थी। जिसमे काउंसिल के चेयरमैन मनन मिश्रा ने कहा था कि जज विवाद सुप्रीम कोर्ट का एक आतंरिक मामला था जिसे अब सुलझा लिया गया है। 

जानिए क्या है मामला...

बता दें 12 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों ने पहली बार अभूतपूर्व कदम उठाया था। जिसमे चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के बाद दूसरे नंबर के सीनियर जज जस्टिस जे चेलमेश्वर, रंजन गोगोई, मदन बी लोकुर और कुरियन जोसेफ ने मीडिया के सामने 20 मिनट तक अपनी बात रखी थी।

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में जस्टिस चेलमेश्वर ने चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के तौर-तरीकों पर सवाल उठाए था । उन्होंने कहा- "लोकतंत्र खतरे में हैं'' अगर इसको ठीक नहीं किया तो सब खत्म हो जाएगा।" इन्होने दो महीने पहले 7 पेज का पत्र भी जारी कियाथा। इसमें ऐसा कहा गया है कि चीफ जस्टिस अपनी पसंद की बेंचों में केस भेजते हैं इतना ही नहीं उन्होंने जज लोया की मौत के केस की सुनवाई पर भी सवाल उठाए थे।


कमेंट करें