नेशनल

दलित चिंतक कांचा इलैया की चप्पलों से पिटाई, हिन्दुओं के खिलाफ अपशब्द लिखने का आरोप

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
742
| सितंबर 24 , 2017 , 12:57 IST

कांचा इलैया एक भारतीय शिक्षाविद्, लेखक और दलित अधिकारों के कार्यकर्ता हैं। कांचा इलैया की नई किताब ‘सामाजिका स्मगलर्लु कोमाटोल्लू’ विवादों के घेरे में है। उनकी इस नई किताब को लेकर तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में विरोध शुरू हो रहा है। आपको बता दें कि वैश्य समुदाय ने किताब के विरोध में उनके साथ कथित तौर पर चप्पलों से मारपीट की। यह घटना भूपलपल्ली जिले में शनिवार की बताई जाती है। पुलिस के मुताबिक़ कांचा इलैया तेलंगाना के वारंगल जिले में एक इवेंट में पहुंचे थे।

उनके आने की खबर सुनते ही लोगों ने विरोध-प्रदर्शन शुरू कर दिया। कांचा इलैया के विरोध में लोगों ने नारेबाजी भी की। तनाव इतना बढ़ गया कि इलैया को पुलिस स्टेशन ले जाना पड़ा। लेकिन इसकी बावजूद भी तनाव काम नहीं हुआ और लोगों ने पुलिस स्टेशन में हंगामा किया। उसी समय एक वकील ने सईदाबाद पुलिस स्टेशन में इलैया के खिलाफ केस दर्ज करवाया। वकील का आरोप है कि उन्होंने अपनी किताब में हिंदुओं के खिलाफ आपत्तिजनक बातें कही हैं।

Kancha feture

पुलिस ने बताया वकील करुणसागर का आरोप है कि लेखक ने अपनी चार किताबों में हिंदुओं के खिलाफ अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल किया था। किताब में हिंदू देवताओं को निंदा की गई थी। वहीं किताब में आगे कहा गया है कि महात्मा गांधी को मारने वाला नाथूराम भी एक ब्राह्मण था। ऐसे दो समुदायों में नफरत को बढ़ावा देने के लिए किया गया।

करुणसागर का आरोप है कि ऐसा पहली बार नहीं जब लेखक ने हिंदुओं के खिलाफ पहली बार लिखा हो। एक रिपोर्ट के अनुसार 18 सितंबर को आंध्र प्रदेश से तेलुगू देश पार्टी (टीडीपी) के राज्यसभा सांसद टीजी वेंकटेश ने कांचा इलैया को देशद्रोही करार देते हुए कहा कि उनकी लेखनी समाज को बांटने के लिए होती है।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें