राजनीति

कर्नाटक: EC के ऐलान करने से पहले ही BJP के अमित मालवीय ने बता दी वोटिंग की तारीख

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1029
| मार्च 27 , 2018 , 13:00 IST

चुनाव आयोग आज एक बार फिर विपक्ष के सवालों के घेरे में फंसता दिख रहा है, कर्नाटक चुनाव की घोषणा करने से कुछ मिनट पहले ही बीजेपी आईटी सेल चीफ अमित मालवीय ने ट्वीट करके तारीख की घोषणा कर डाली। मालवीय ने ट्वीट कर बताया कि कर्नाटक में 12 मई को वोटिंग होगी। जबकि दूसरी तरफ चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस चल ही रही थी।

पत्रकारों ने जब प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ही यह मुद्दा उठाया तो मुख्य चुनाव आयुक्त रावत ने साफ कहा कि इस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। उधर, विवाद बढ़ने पर अमित मालवीय ने ट्वीट डिलीट कर दिया।

Vcb

मालवीय ने अपने ट्वीट में लिखा कि कर्नाटक में 12 मई 2018 को वोटिंग होगी और 18 मई 2018 को काउंटिंग होगी। अमित ने जिस वक्त ये ट्वीट किया, उस वक्त दिल्ली में चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस चल रही थी।

मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत चुनाव के बारे में बता ही रहे थे, उन्होंने न ही मतदान की तारीख बताई थी और न ही मतगणना की तारीख की घोषणा की थी, बावजूद इसके अमित मालवीय ने ट्वीट कर चुनाव तारीख की घोषणा कर डाली।

चुनाव आयोग के मुताबिक 17 अप्रैल 2018 को अधिसूचना जारी होगी। उम्मीदवार 27 अप्रैल तक नाम वापस ले सकेंगे। इसके बाद 12 मई को मतदान होगा और मतगणना 15 मई को होगी।

EVM से कराए जाएंगे चुनाव-:

मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने बताया कि कर्नाटक में 4 करोड़ 96 लाख वोटर हैं। 97 फीसदी फोटो पहचान पत्र जारी किए गए। चुनाव में 56 हजार पोलिंग स्टेशन बनाए जाएंगे। महिलाओं और दिव्यांगों के लिए विशेष इंतजाम किए जाएंगे। सभी पोलिंग स्टेशनों पर EVM के साथ VVPAT का भी इस्तेमाल होगा। इलेक्ट्रॉनिक मशीनों के बारे में लोगों को जागरुक किया जा रहा है।

रात में 10 बजे के बाद लाउडस्पीकर पर बैन-:

रावत ने बताया कि 28 मई से पहले सभी प्रक्रिया पूरी कर ली जाएंगी। लाउडस्पीकर का इस्तेमाल रात में 10 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक नहीं होगा। सुरक्षा के लिए केंद्रीय सुरक्षाबलों की भी तैनाती की जाएगी। चुनावी खर्चे पर भी नजर रखी जाएगी। एक उम्मीदवार 28 लाख रुपये ही खर्च कर सकता है। बिना दस्तावेज के बड़ी रकम जब्त कर ली जाएगी।

पेड न्यूज पर सख्ती-:

पेड न्यूज रोकने के लिए उन्होंने कहा कि मीडिया की मॉनिटरिंग की जाएगी। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर विज्ञापनों पर भी नजर रखी जाएगी। उन्होंने कहा कि मीडिया हमेशा से चुनाव आयोगा का फ्रेंड रहा है।

कर्नाटक असेंबली में 224 सीटें हैं। इस समय राज्य में कांग्रेस की सरकार है और वह अपने इस आखिरी बड़े राज्य में सत्ता बरकरार रखना चाहेगी। उधर, बीजेपी मोदी मैजिक के सहारे सत्ता हथियाना चाहेगी।

इसे भी पढ़ें-: कर्नाटक में बजा चुनावी बिगुल, 12 मई को होंगे चुनाव, सभी केंद्रों पर लगेंगे VVPAT

हाल ही में पूर्वोत्तर में विजय पताका लहरानेवाली बीजेपी के लिए भी यह चुनाव प्रतिष्ठा का सवाल है। यही वजह है कि चुनाव की तारीखों के ऐलान से पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनावी सभाएं करनी शुरू कर दी थीं। हालांकि कांग्रेस पार्टी भी अपनी तरफ से कोई कसर नहीं छोड़ रही है।


कमेंट करें