नेशनल

नन रेप केस: बिशप के बचाव में चर्च ग्रुप ने जारी की पीड़िता की तस्वीर, कहा- 'नहीं हुआ रेप'

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1500
| सितंबर 14 , 2018 , 20:14 IST

भले ही देश-भर में नन से रेप के आरोपी बिशप फ्रैंको मुलक्कल की गिरफ्तारी की मांग हो रही हो, मिशनरीज ऑफ जीसस ने उनके समर्थन में आते हुए शुक्रवार को एक बड़ा विवाद खड़ा कर दिया है। दरअसल, मिशनरीज ऑफ जीसस की जांच कमिशन को जांच में मिले तथ्य सामने रखते हुए चर्च ग्रुप ने पीड़िता की तस्वीर ही जारी कर दी। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के दिशा-निर्देश के अनुसार कोई भी रेप पीड़िता की तस्वीर सार्वजनिक नहीं कर सकता।

मिशनरीज ऑफ जीसस ने शुरू से ही बिशप मुलक्कल पर लगे आरोपों को साजिश बताया है। चर्च ग्रुप का कहना है कि पीड़िता ने पांच दूसरी नन के साथ मिलकर जालंधर बिशप के खिलाफ साजिश की है। कमिशन का दावा है कि बिशप 5 मई, 2015 को कुरविलंगाड़ में नहीं रुके थे, जैसा शिकायत में नन ने आरोप लगाया है। यह भी कहा गया कि 23 मई, 2015 को एक फोटो में बिशप के साथ वे देखे जा सकते हैं और इससे साबित होता है कि रेप नहीं हुआ है।

फ्रैंको निर्दोष, बदले के लिए लगाया है आरोप'

कमिशन ने आरोप लगाया है कि पीड़िता ने अपने दोस्तों से विजिटर्स रजिस्टर में छेड़छाड़ कराई और मदर सुपीरियर से सीसीटीवी का कंट्रोल भी लिया। कमिशन ने फ्रैंको मुलक्कल को निर्दोष बताते हुए दोहराया है कि नन बदला लेने के लिए ऐसा कर रही हैं। गौरतलब है कि केरल हाई कोर्ट ने तीन याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए मामले की जांच से संतुष्टि जताई है और कहा है कि यह जांच अधिकारी पर निर्भर करता है कि बिशप को गिरफ्तार करना है या नहीं। साथ ही कोर्ट ने सीबीआई को जांच सौंपने से इनकार कर दिया है।


कमेंट करें