नेशनल

केरल: NDRF के जवान पीठ की सीढ़ी बनाकर तो...सेना एयरलिफ्ट से कर रही रेस्क्यू

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
2409
| अगस्त 20 , 2018 , 13:55 IST

भारत के केरल राज्य में भयंकर बारिश के बाद आई बाढ़ और भूस्खलन ने चारों ओर हाहाकार मचा रखा है। बाढ़ से आम जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित गया है। हजारों मकान बाढ़ के पानी में समा गए हैं, सड़कें धस गई। चारों ओर केवल पानी ही पानी नजर आ रहा है। बाढ़ में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। सेना व एनडीआरएफ की टीमों के अलावा स्थानीय मछुआरे भी अपनी नाव लेकर मदद के लिए आगे आए हैं। एनडीएआरएफ के जवान लोगों को अपनी पीठ की सीढ़ी बनाकर लोगों को नाव पर चढ़कर सुरक्षित स्थान पर भेज रहे हैं।

इस बीच केरल में बाढ़ से मरने वालों की संख्या बढ़कर 357 हो गई है। अकेले शनिवार को ही 33 लोगों की मौत हो गई। हालांकि केरल के जलप्रलय में सेना भगवान बनकर लोगों की मदद कर रही है। रविवार को भारतीय वायुसेना के गरुड़ स्पेशल फोर्स के विंग कमांडर प्रशांत ने अलप्पुझा के बाढ़ प्रभावित शहर में छत से एक बच्चे को एयरलिफ्ट कर बचाया।

केरल में आवश्यक सहायता उपलब्ध कराने के लिए सेना, नौसेना, वायुसेना, तटरक्षक एवं राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) सहित सभी एजेंसियों ने अतिरिक्त संसाधनों को जुटाने का फैसला किया है। युद्धस्तर पर जारी रेस्क्यू ऑपरेशन में नौसेना की 46, वायुसेना की 13 और थलसेना की 18 टीमों के साथ कोस्ट गार्ड और एनडीआरएफ की टीमें दिन-रात लोगों को बचाने में जुटी हैं।

इस बीच बाढ़ प्रभावित इलाकों में फंसे बड़ी संख्या में बुजुर्गों, महिलाओं और बच्चों को एयरलिफ्ट कर बचाया जा रहा है। एनडीआरएफ की टीमें जमीन पर, तो वायुसेना के हेलीकॉप्टर आसमान से पीड़ितों की मदद कर रहे हैं। इस बीच कई इलाकों में हो रही लगातार बारिश राहत-बचाव कार्य के लिए चुनौती बनी हुई है।

14 जिलों से रेड अलर्ट हटा पिछले दो दिनों में राज्य के कई इलाकों में बारिश में कमी देखी गई है। इस बीच धीरे-धीरे बाढ़ से जूझ रहे केरल के हालात सुधर रहे हैं। इसके चलते सभी 14 जिलों से रेड अलर्ट हटा लिया गया है। मौसम विभाग ने भी अगले पांच दिनों में बारिश में कमी की संभावना जताई है। हालांकि खतरे की कुछ आशंकाओं को देखते हुए 10 जिलों में ऑरेंज अलर्ट और 2 जिलों में येलो अलर्ट जारी किया गया है।

3026 राहत शिविरों में 3.53 लाख लोग बारिश और बाढ़ की मार झेल रहे केरल के 3.53 लाख पीड़ित लोग 3026 राहत शिविरों में शरण लिए हुए हैं। 40,000 हेक्टेयर क्षेत्र में फसलें बर्बाद हो गई हैं। 1,000 से ज्यादा घर पूरी तरह से नष्ट हो गए जबकि 26,000 घरों को नुकसान पहुंचा है। कुल मिलाकर केरल बाढ़ में अब तक 21,000 करोड़ का नुकसान हो चुका है। बाढ़ से जूझ रहे केरल की मदद के लिए पूरे देश से राहत सामग्री केरल पहुंच रही है।

कोच्चि में नेवल स्टेशन आइएनएस गरुड़ पर नेवल अडवांस्ड हेलीकॉप्टर, चेतक हेलीकॉप्टर और नेवल सी किंग हेलीकॉप्टर के जरीए बाढ़ में फंसे हुए लोगों तक राहत सामग्री पहुंचाई जा रही है।

मदद के लिए कई राज्य आए आगे

जलप्रलय से जूझ रहे केरल की मदद के लिए पूरा देश कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा हो गया है। कई राज्यों ने भी केरल को मदद राशि देने का ऐलान किया है। तेलंगाना ने 25 करोड़, महाराष्ट्र ने 20 करोड़, उत्तर प्रदेश ने 15 करोड़, उत्तराखंड ने 5 करोड़, तमिलनाडू ने 5 करोड़, गुजरात ने 10 करोड़, झारखंड ने 5 करोड़, मध्य प्रदेश ने 10 करोड़, ओडिशा ने 5 करोड़, बिहार ने 10 करोड़, हरियाणा ने 10 करोड़, पश्चिम बंगाल ने 10 करोड़ रुपये, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने 2 करोड़ रुपये की मदद राशि देने का ऐलान किया है।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें