नेशनल

केरल के मंत्री थॉमस चांडी ने दिया इस्तीफा, जमीन हड़पने का है आरोप

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
549
| नवंबर 15 , 2017 , 14:42 IST

केरल के परिवहन मंत्री थॉमस चांडी ने बुधवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया। चांडी ने अपना इस्तीफा राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ( एनसीपी) नेता टी.पी. पीतांबरन के जरिए मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन को सौंप दिया है।

थोमस चांडी पर भ्रष्टाचार और जमीन हड़पने का आरोप है। मंगलवार को अदालत ने इन आरोपों की पुष्टि भी की थी। इसके बाद आज (15 नंवबर) को थोमस चांडी ने सीएम पी विजयन से मुलाकात की और उन्हें अपना त्याग पत्र सौंप दिया है। थोमस चांडी पी विजयन कैबिनेट से इस्तीफा देने वाले तीसरे मंत्री हैं।

इससे पहले सीपीआई(एम) के नेता जयराजन ने इंडस्ट्री मिनिस्टर ने नेपोटिज्म का आरोप लगने के बाद इस्तीफा सौंपा था। जबकि ए के शशीधरन पर महिला पत्रकार के साथ यौन उत्पीड़न का आरोप लगने के बाद इस्तीफा देना पड़ा था।

चांडी ने अपना इस्तीफा राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ( एनसीपी) नेता टी.पी. पीतांबरन के जरिए मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन को सौंप दिया है। थोमस चांडी एनसीपी नेता हैं और उनकी पार्टी केरल में लेफ्ट की अगुवाई वाली गठबंधन सरकार में शामिल है। इस्तीफा सौंपने के बाद मीडिया से बात करते हुए पीतांबरन ने कहा कि इस्तीफा पत्र सौंप दिया गया है।

दरअसल थॉमस चांडी पर केरल में सरकारी जमीन पर मौजूद पूननामदा झील के एक हिस्से पर गैर कानूनी तरीके से कब्जा करने का आरोप लगा है। राजस्व विभाग द्वारा इससे जुड़ी एक रिपोर्ट जारी करने के बाद एक शख्स ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की थी।

चांडी की सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने कहा था कि अगर यह कब्जा मंत्री की जगह किसी आम आदमी ने किया होता तो भी क्या सरकार का रवैया ऐसा ही होता? केरल सरकार पर उनके खिलाफ एक्शन ना लेने के आरोप लगा था।

क्या है आरोप?

चांडी पर आरोप है कि उन्होंने धान की खेती की जमीन को भरकर अपने रिसॉर्ट तक एक किलोमीटर का रास्ता बनाया है। यह सड़क सात मीटर चौड़ी है जबकि नियमों के मुताबिक धान के खेत पर बनने वाली सड़क की चौड़ाई चार मीटर होनी चाहिए। साथ ही खेत के पानी के बहाव की दिशा बदलने और रिसॉर्ट के गेट के सामने पार्किंग बनाने का भी आरोप है।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें