राजनीति

राजस्थान में किरोड़ी लाल मीणा की हुई बीजेपी में घर वापसी

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2319
| मार्च 11 , 2018 , 19:27 IST

राजस्थान में एनपीपी प्रमुख किरोड़ी लाल मीणा ने रविवार को भारतीय जनता पार्टी में वापसी कर ली। करीब 10 साल बाद पार्टी में लौट रहे नेता किरोणी लाल मीना का जयपुर के बीजेपी मुख्यालय में को गर्मजोशी से स्वागत किया गया।

मीणा की वापसी पर आयोजित एक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, बीजेपी प्रदेश अध्‍यक्ष अशोक परनामी सहित कई मंत्री शामिल हुए। वे भाजपा में शामिल हो गए हैं। उनके साथ ही उनकी बनाई हुई पार्टी राजपा के तीन विधायक भी भाजपा में शामिल हो गए हैं।

राजपा विधायक किरोड़ी लाल मीणा के भाजपा में शामिल होने की चर्चाओं को आज उस वक्त बल मिला, जब प्रदेश भाजपा मुख्यालय पर खासी सरगर्मियां देखी गई। भाजपा कार्यालय पर अचानक बनी इन सरगर्मियों के बीच भाजपा के कई पदाधिकारियों के पहुंचने का सिलसिला भी तेज हुआ और आखिर में किरोड़ी लाल मीणा और उनके विधायकों ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली।

दरअसल, आज सुबह ही मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की किरोड़ी लाल मीणा से मुलाकात हुई थी, जिसके बाद से ही कयास लगाए जा रहे थे कि आज किरोड़ी लाल मीणा एवं उनकी पार्टी के विधायक भाजपा में शामिल हो सकते हैं।

इसके बाद भाजपा मुख्यालय पर अचानक से तेज हुई सरगर्मियों ने इन चर्चाओं एवं कयासों को प्रबल संभावनाओं में तब्दील कर दिया था। इसके बाद भाजपा के आला नेताओं एवं पदाधिकारियों की मौजूदगी में किरोड़ी लाल मीणा एवं उनकी पार्टी के तीन विधायकों ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की।

640_6401499692802hiw9jt1euywyjjt5t6ekwz1f

किरोड़ी लाल मीणा के साथ ही भाजपा में शामिल होने वाले विधायकों में उनकी पत्नी गोलमा देवी, गीता वर्मा और नवीन पिलानिया के नाम भी शामिल हैं।

हालांकि अभी तक ये साफ नहीं हो पाया है कि किरोड़ी मीणा पूरी तरह से भाजपा में शामिल हुए हैं या फिर अपनी पार्टी राजपा का भाजपा के साथ विलय किया है।

बताया जा रहा है कि किरोड़ी लाल मीणा के भाई जगमोहन मीणा को बीजेपी की तरफ से राज्यसभा में भेजा जा रहा है। हालांकि अभी तक जगमोहन मीणा के नाम की घोषणा नहीं हुई है, लेकिन बीजेपी आलाकमान की तरफ से उनके नाम को लेकर फाइनल कर दिया गया है।

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक, जल्द ही सीएम के मंत्रीमंडल का पुर्नगठन होगा, जिसमें किरोड़ीलाल मीणा को उपमुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। यदि वे उप मुख्यमंत्री नहीं बनते हैं तो भी उन्हें बड़ा महकमा दिया जा सकता है।

बहरहाल ऐसे में किरोड़ी के भाजपा का दामन थाम लेने के बाद अब राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनावों में जीत हासिल करने के लिए भाजपा पुरजोर कोशिशों के साथ जुटती हुई नजर आने लगी है।

प्रदेश की राजनीति में हुई इस बड़े राजनीतिक उलटफेर से ऐसा प्रतीत होने लगा है कि विधानसभा चुनावों में फतेह हासिल करने के लिए भाजपा ने विरोधियों को धराशायी करने के प्रसाय तेज कर दिए हैं।

आपको बता दें कि किरोड़ी लाल मीणा संघ के स्वयंसेवक हैं और उन्होंने नागपुर से तृतीय वर्ष ओटीसी तक किया हुआ है। किरोड़ी लाला मीणा पहले भी काफी लम्बे समय तक भाजपा में रहे हैं, लेकिन नेतृत्व के मामले में उन्होंने करीब 9 साल पहले भाजपा से बगावत कर ली थी।

इसे भी पढ़ें-: जयाप्रदा के खिलजी वाले बयान पर भड़के आजम, कहा- नाचने वालों के मुंह नहीं लगते

इसके बाद उन्होंने राजपा के नाम से खुद की पार्टी बना ली थी। इसके बावजूद आज तक भी उनकी विचारधारा संघ वाली ही रही है और आज आखिरकार उन्होंने भाजपा में शामिल होकर घर वापसी कर ली है।


कमेंट करें