ख़ास रिपोर्ट

25 साल पहले मुख्यमंत्री बनने से चूके थे कमलनाथ, आज MP के बने 18वें सीएम

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 1
4944
| दिसंबर 17 , 2018 , 14:56 IST

कमलनाथ ने मध्यप्रदेश के 18वें मुख्यमंत्री के रुप में शपथ ली। मुख्यमंत्री की कुर्सी पर कमलनाथ का सफर चुनौतियों से भरा रहेगा। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कड़ी चुनौती दी लेकिन आखिरकार पार्टी अध्यक्ष को कठोर निर्णय लेना पड़ा।

वहीं राहुल गांधी  ने कहा कि ‘‘धैर्य और समय दो सबसे शक्तिशाली योद्धा'' होते हैं। आखिरकार अनुभव ही बदलाव की जरुरत को लेकर विजयी हुआ और कमलनाथ को मुख्यमंत्री चुना गया। इसमें अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव को भी ध्यान में रखा गया है।

Kamalnath1223456_15447234

उन्होंने बताया कि इंदिरा गांधी छिन्दवाड़ा लोकसभा सीट के प्रत्याशी कमलनाथ के लिए चुनाव प्रचार करने आई थीं। इंदिरा ने तब मतदाताओं से चुनावी सभा में कहा था कि कमलनाथ उनके तीसरे बेटे हैं। कृपया उन्हें वोट दीजिए। 

इंदिरा गांधी ने अपना तीसरा बेटा करार दिया था

कभी पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा अपना तीसरा बेटा करार दिये गये वरिष्ठ कांग्रेस नेता कमलनाथ जब पार्टी आलाकमान से मध्य प्रदेश का नया मुख्यमंत्री बनने की मंजूरी लेकर भोपाल पहुंचे तो उनके समर्थकों ने ‘जय जय कमलनाथ’ के नारे से उनका स्वागत किया गया। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने एक बार उन्हें अपना तीसरा बेटा कहा था जब उन्होंने 1979 में मोरारजी देसाई की सरकार से मुकाबले में मदद की थी। कमलनाथ संजय गांधी के स्कूली दोस्त बताए जाते हैं। वे 1980 में पहली बार छिंदवाड़ा से सांसद चुने गए थे। इस चुनाव में प्रचार के दौरान इंदिरा गांधी ने उन्हें अपना तीसरा बेटा बताया था।

Kamalnath

कमलनाथ को 39 साल बाद अब इंदिरा के पोते कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने नयी जिम्मेदारी सौंपी है। इससे पहले राहुल गांधी ने मध्य प्रदेश में पार्टी द्वारा सरकार गठन के लिए जरुरी संख्याबल जुटा लिये जाने के बाद दो दिनों तक गहन माथापच्ची की। पंद्रह साल बाद कांग्रेस राज्य में सत्तासीन होने जा रही है।

आपातकाल के बाद 1979 में भारतीय जनता पार्टी की सरकार के दौरान संजय गांधी को एक मामले में कोर्ट ने तिहाड़ जेल भेज दिया। तब इंदिरा संजय की सुरक्षा को लेकर चिंतित थीं। कहा जाता है कि तब कमलनाथ जानबूझकर एक जज से लड़े। जज ने उन्हें भी अवमानना के चलते सात दिन के लिए तिहाड़ भेज दिया, जहां वे संजय गांधी के साथ रहे।

कमलनाथ का जन्म कानपुर में हुआ था। उन्होने दून स्कूल से पढाई की है और उन्होने स्नातक सेंट जेवियर्स कॉलेज कोलकता से की है।

9 बार से सांसद

72 साल के कमलनाथ मध्य प्रदेश की छिंदवाड़ा लोकसभा सीट से 9 बार से सांसद हैं। वे 1980, 1985, 1989, 1991, 1998, 1999, 2004, 2009, 2014 में सांसद बने। 1993 में भी कमलनाथ के मुख्यमंत्री बनने की चर्चा थी। बताया जाता है कि तब अर्जुन सिंह ने दिग्विजय सिंह का नाम आगे कर दिया। इस तरह कमलनाथ 25 साल पहले सीएम बनने से चूक गए थे।

Kamal_nath_image

यूपीए सरकार में रहे मंत्री

यूपीए सरकार में कमलनाथ कई बार केंद्रीय मंत्री रह चुके हैं। कमलनाथ 1991 में राज्य पर्यावरण मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), 1995-1996 टेक्सटाइल मंत्रालय (स्वतंत्र प्रभार) मंत्री रहे हैं। उन्होंने 2001-2004 तक कांग्रेस के महासचिव का पद संभाला। वे 2004-2009 तक यूपीए सरकार में केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री रहे। 2009 में कमलनाथ सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री बने। 2011 में उन्हें शहरी विकास मंत्री बनाए गए। 2012 में उन्हें संसदीय कार्य मंत्री का अतिरिक्त प्रभार दिया गया।

 

 

 

 

 

 


कमेंट करें