खेल

कोहली को तेंडुलकर की सलाह, आसपास क्या हो रहा है ध्यान न दें, सिर्फ दिल की सुनें

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
2059
| अगस्त 8 , 2018 , 13:51 IST

सचिन तेंदुलकर ने भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली को सलाह दी है। सचिन ने कहा कि उन्हें अपने दिल की सुननी चाहिए और अपनी शानदार बल्लेबाजी जारी रखनी चाहिए। भारतीय टीम इस समय इंग्लैंड के दौरे पर है और पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में हिस्सा ले रही है। पहले टेस्ट में उसे हार का सामना करना पड़ा था।

आपको बता दें कि एजबेस्टन टेस्ट में भारत की हार के बाद कोहली की कप्तानी पर सवाल उठे थे। इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने कहा था कि पहले टेस्ट में कोहली के कुछ फैसले अच्छे नहीं थे। हालांकि, सचिन ने कहा कि विराट बेहतरीन बल्लेबाजी कर रहे हैं। वे ऐसे ही खेलते रहें। आसपास क्या हो रहा है, इस बारे में चिंता न करें।

दूसरे टेस्ट मैच से पहले तेंदुलकर की कोहली को यह सलाह

तेंदुलकर की कोहली को यह सलाह लॉडर्स में गुरुवार से शुरू हो रहे दूसरे टेस्ट मैच से पहले आई है। पहले टेस्ट में भारतीय बल्लेबाजों में से सिर्फ कोहली का ही बल्ला चला था। उन्होंने पहली पारी में 149 और दूसरी पारी में 51 रन बनाए थे और इसी प्रदर्शन के दम पर आईसीसी टेस्ट बल्लेबाजों की रैकिंग में पहला स्थान हासिल किया था।

क्रिकइंफो ने तेंदुलकर के हवाले से लिखा है, 'मैं कहूंगा कि उन्हें वही करना चाहिए जो वह करते आ रहे हैं। वह शानदार काम कर रहे हैं इसलिए उन्हें वैसे ही खेलते रहना चाहिए।

उन्होंने कहा, 'आस-पास क्या हो रहा है इस बारे में न सोचें और अपना ध्यान उस चीज पर लगाएं, जो हासिल करना हैं और अपने दिल की आवाज सुनें.' पूर्व कप्तान ने कहा, 'साथ में काफी कुछ चीजें कही जाती हैं, लेकिन अगर आप जो हासिल करना चाहते उसे पाने के लिए जुनूनी हो तो परिणाम आपके हक में होता है।'

तेंदुलकर ने हालांकि कोहली को कहा कि उन्हें आराम से नहीं बैठना है। उन्होंने कहा, 'मैं अपने अनुभव से कह सकता हूं आप कितने भी रन बना लो यह रन काफी नहीं होंगे.' उन्होंने कहा, 'आपको ज्यादा रनों की जरूरत होती है और यही विराट के साथ है। चाहे जितने भी रन आप बना लो वो काफी नहीं होते।'

तेंदुलकर ने कहा, 'जब आप संतुष्ट हो जाते हो तो आपका बुरा समय शुरू हो जाता है, इसलिए आप बल्लेबाज हो तो कभी संतुष्ट मत हो। गेंदबाज सिर्फ 10 विकेट ले सकता है, लेकिन बल्लेबाज को रन बनाने होते हैं इसलिए संतुष्ट नहीं होना चाहिए। साथ में खुश रहो।'

Kohli_d

आपको बता दे कि पहले टेस्ट मैच में इंग्लैंड ने भारत को 31 रन से हराया था। इसके बाद नासिर हुसैन ने कहा था कि कोहली को हार की जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

संतुष्ट होने पर पतन शुरू हो जाएगा

खेल वेबसाइट क्रिकइन्फो को दिए इंटरव्यू में सचिन ने कहा, ‘"आसपास बहुत-सी बातें कही जाएंगी। आप जीवन में जो पाना चाहते हैं और जिस बात को लेकर आप आगे बढ़ रहे हैं, सिर्फ उसी पर फोकस रखें। परिणाम हमेशा आपके पक्ष में होंगे। मैं अपने अनुभव से कहना चाहता हूं कि आप जितने भी रन बना लें, वे कम ही होंगे। जिस दिन आप अपने प्रदर्शन संतुष्ट हो जाएंगे, वहां से पतन शुरू हो जाएगा। गेंदबाज केवल दस विकेट ले सकता है, लेकिन बल्लेबाज लगातार रन बना सकता है। इसलिए कभी संतुष्ट न हों, सिर्फ खुश रहें।’’

एजबेस्टन की उपलब्धि पर फख्र होना चाहिए

सचिन ने कहा कि कोहली को एजबेस्टन में हासिल व्यक्तिगत उपलब्धि पर फख्र होना चाहिए। उन्हें ध्यान रखना चाहिए कि 2014 में उनका इंग्लैंड दौरा ठीक नहीं था। विराट ने 2014 के इंग्लैंड दौरे पर पांच टेस्ट में केवल 134 रन बनाए थे। इस दौरान उनका सर्वोच्च स्कोर 39 था। वे छह बार दहाई के आंकड़े को भी नहीं छू सके थे। जबकि इस बार पहले ही टेस्ट में कोहली ने दोनों पारियों में कुल 200 रन बनाए।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें