इंटरनेशनल

हमेशा के लिए विदा हुईं नवाज़ शरीफ की बेगम कुलसुम, लंदन के अस्‍पताल में हुआ निधन

राजू झा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1502
| सितंबर 11 , 2018 , 19:18 IST

नवाज शरीफ की पत्‍नी कुलसुम नवाज का मंगलवार को लंदन के अस्‍पताल में निधन हो गया है। 68 वर्षीय कुलसुम नवाज पिछले काफी समय से गले के कैंसर से जूझ रही थीं। वर्ष नवाज को कोर्ट द्वारा सत्‍ता से बेदखल किए जाने के बाद जब लाहौर की NA-120 सीट पर उपचुनाव हुआ था तब कुलसुम को ही यहां से उम्‍मीदवार बनाया गया था।

Kulsum_3396107_835x547-m

माना जा रहा था कि कोर्ट के सख्‍त रुख के बाद नवाज पार्टी की पूरी जिम्‍मेदारी के साथ-साथ देश की कमान भी वक्‍त पड़ने पर उन्‍हें सौंप देंगे। लेकिन चुनाव से पहले ही उनकी हालत खराब हो गई थी और उन्‍हें इमरजेंसी में लंदन के अस्‍पताल में भर्ती करना पड़ा था। सितंबर से ही वह अस्‍पताल में भर्ती थीं। आपको बता दें कि इसी वर्ष जून में उन्‍हें जबरदस्‍त दिल का दौरा पड़ा था जिसके बाद उन्‍हें वेंटिलेटर पर रखना पड़ा था। तब से ही वह इस पर थीं। यह कहना गलत नहींं गलत नहीं होगा कि नवाज के पूरे परिवार के लिए यह सबसे मुश्किल पल है। फिलहाल नवाज और मरियम दोनों ही पाकिस्‍तान की जेल में बंद हैं।

58e0db49a6e3d

सूत्रो केअनुसार कुलसुम के शव को पाकिस्तान लाया जाएगा और वहीं सुपु्द-ए-खाक किया जाएगा। वहीं, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा ने कुलसुम नवाज के इंतकाल पर गहरा शोक व्यक्त किया है। पाकिस्तानी पीएम खान ने लंदन स्थिति पाकिस्तानी हाई कमीशन को कुलसुम नवाज के परिजनों की हर संभव मदद करने का निर्देश दिया है।

मां की करीब रही है मरियम

मरियम अपने पिता और अम्‍मी के काफी करीब मानी जाती हैं। यही वजह है कि जब कुलसुम को दिल का दौरा पड़ने की बात सामने आई तो मरियम ने ट्विटर पर यह जानकारी देते हुए लिखा कि वह अपनी मां को देखने लंदन जा रही हैं। उन्‍होंने सभी लोगों ने अपनी मां की सेहत के लिए दुआ करने को भी लिखा था। मरियम की मां से करीबी का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि उन्‍होंने लंदन में अस्‍पताल में अपनी मां को देखने के बाद सोशल मीडिया पर लिखा था कि वह अपनी मां की आवाज सुनने के लिए तरस रही हैं। वह उन्‍हें फिर से हंसता हुआ देखना चाहती हैं।

Kulsum-nawaz-get-heart-atta

कौन थी कुलसुम नवाज

कुलसुम नवाज 1990-1993, 1997-1999 और फिर 2013-2017 तक देश की प्रथम महिला रही थीं। 1950 में कश्‍मीरी परिवार में पैदा हुई कुलसुम की पढ़ाई लिखाई लाहौर के इस्‍लामिया कॉलेज से हुई थी, बाद में इस कॉलेज का नाम बदलकर क्रिसचन कॉलेज कर दिया गया था। उन्‍होंने पंजाब यूनिवर्सिटी से 1970 में उर्दू से मास्‍टर डिग्री हासिल की थी। 1971 में कुलसुम का निकाह नवाज शरीफ से हुई। कुलसुम 1999-2002 तक पीएमएल-एन की अध्‍यक्ष भी रहीं।

400828_67446486

नवाज की सत्‍ता का तख्‍ता पलट करने के बाद परवेज मुशर्रफ ने उन्‍हें और मरियम को नजरबंद कर दिया था, जबकि परिवार के दूसरे सदस्‍यों को जेल में डाल दिया गया था। कुलसुम पिछले करीब तीस वर्षों से नवाज की करीबी के साथ-साथ उनकी सलाहकार भी थीं। सरकार से जुड़े कई फैसलों पर नवाज खुद कुलसुम से सलाह लेते थे। खुद नवाज ने अपने कई भाषणों में इस बात का खुलकर जिक्र भी किया है। खुद मरियम ने भी एक बार कुलसुम का जिक्र करते हुए एक इंटरव्‍यू में बताया था कि वह परिवार और पार्टी के लिए कितनी अहम हैं।

आपको बता दें कि नेशनल असेंबली का चुनाव जीतने के बावजूद अपनी बीमारी की वजह से कुलसुम कभी भी नेशनल नअसेंबली नहीं जा सकी । 2 मई को नवाज शरीफ ने अपनी शादी की 47वीं सालगिरह को भी कुलसुम के साथ बड़े उदासी भरे माहौल में मनाई था, जबकि पिछले वर्ष यह बड़े शानदार तरीके से मनाई गई थी और मरियम ने इस जश्‍न की फोटो ट्विटर पर शेयर भी की थीं।


कमेंट करें