नेशनल

ISI के इशारे पर मुल्ला उमर ने किया था कुलभूषण को अगवा

icon कुलदीप सिंह | 0
762
| जनवरी 19 , 2018 , 12:48 IST

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नेवी के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव के बारे में एक बलूच नेता ने सनसनीखेज खुलासा किया है। बलूच नेता मामा कादिर बलोच का कहना है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ने ईरान के चाबहार से जाधव का अपहरण करवाया था, इसके लिए जैश-उल-अदल के आंतकी मुल्ला उमर को करोड़ों रुपए दिए गए थे। एक निजी न्‍यूज चैनल को दिए इंटरव्‍यू में कदीर ने ये सनसनीखेज दावा किया।

वाइस ऑफ मिसिंग बलूच नाम की संस्था के उपाध्यक्ष मामा कादिर ने एक भारतीय न्यूज चैनल को बताया कि उसके एक कार्यकर्ता ने बताया था कि जाधव को ईरान के चाबहार बंदरगाह से पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए काम करने वाले मुल्ला उमर बलूच ईरानी ने पकड़ा था। कादिर का कहना है कि उसके एक कार्यकर्ता घटना का गवाह है। उसने देखा था कि जाधव के दोनों हाथ बंधे हुए थे।

ये भी पढ़ें-सरकार ने आखिरकार माना, थाईलैंड में हुई थी भारत-पाक NSA की सीक्रेट मीटिंग

कादिर का कहना है कि उसका एक कार्यकर्ता घटना का गवाह है। उसने देखा था कि जाधव के दोनों हाथ बंधे हुए थे। बलूच ईरानी उसे पहले कार में डालकर ईरान-बलूचिस्तान सीमा पर स्थित मशखल कस्बे में ले गया। वहां से उसे बलूचिस्तान की राजधानी क्वेटा लाया गया और फिर इस्लामाबाद। कदीर ने कहा कि हम जानते थे कि कुलभूषण जाधव ईरान में एक व्यवसायी थे। आईएसआई ने घोषणा की थी कि उन्होंने बलूचिस्तान में जाधव को पकड़ा है।

बलोच ने बताया कि जब उन्हें पता चला कि किसी भारतीय का रहस्यमय अपहरण हुआ है तो उन्होने को-ऑर्डिनेटर्स से इस मामले की जांच करने के लिए कहा। उनकी टीम की जांच में सामने आया कि कुलभूषण जाधव अपनी जिंदगी में कभी बलूचिस्तान नहीं आए हैं। बलूचिस्तान के हर जिले में हमारा एक कोऑर्डिनेटर है। उनके किसी भी को-ऑर्डिनेटर ने कभी भी जाधव को नहीं बलूचिस्तान के इलाकों में नहीं देखा।

बलोच बोले कि आईएसआई का इस तरह लोगों को किडनैप करना एक पुराना हथकंडा है, उनके बेटों को भी इसी तरह किडनैप किया गया था। उन्होंने कहा कि हमारे पास ऐसे कई गवाह हैं जो यह साबित कर सकते हैं कि पाकिस्तानी आर्मी और आईएसआई लोगों के अपहरण के लिए आतंकी संगठनों का इस्तेमाल करती हैं। मेरे बेटे को आईएसआई ने 2009 में किडनैप किया था। तीन साल बाद हमें उसकी डेडबॉडी मिली थी।


author
कुलदीप सिंह

Executive Editor - News World India. Follow me on twitter - @KuldeepSingBais

कमेंट करें