आईना क्यूँ न दूँ कि तमाशा कहें जिसे, ऐसा कहाँ से लाऊँ कि तुझ सा कहें जिसे

icon कुलदीप सिंह | 0
2583
| दिसंबर 27 , 2017 , 12:48 IST

शेर-ओ-शायरी की दुनिया के बादशाह, उर्दू एवं फ़ारसी भाषा के महान शायर 'मिर्ज़ा ग़ालिब' का 27 दिसंबर 2017 को 220वां जन्मदिवस है। इस मौके पर इस महान शायर को दुनियाभर में हिन्दी और उर्दू अदब के चाहने वाले याद कर रहे हैं। मिर्ज़ा ग़ालिब का पूरा नाम असद-उल्लाह बेग ख़ां उर्फ ग़ालिब था। इस महान शायर का जन्म 27 दिसंबर 1796 में उत्तर प्रदेश के आगरा शहर में एक सैनिक पृष्ठभूमि वाले परिवार में हुआ था। उन्हे दबीर-उल-मुल्क और नज़्म-उद-दौला का खिताब मिला है। ग़ालिब (और असद) नाम से लिखने वाले मिर्ज़ा मुग़ल काल के आख़िरी शासक बहादुर शाह ज़फ़र के दरबारी कवि भी रहे थे। उनके 220वें जन्मदिन के मौके पर न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया उनके चंद शेर आपकी नज़र कर रहा है। 

10 तस्वीरों में नीचे देखिए ग़ालिब के 10 बेहतरीन शेर ...

 और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छेकहते हैं कि 'ग़ालिब' का है अंदाज़-ए-बयाँ और
 और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छेकहते हैं कि 'ग़ालिब' का है अंदाज़-ए-बयाँ और (8)
 और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छेकहते हैं कि 'ग़ालिब' का है अंदाज़-ए-बयाँ और
 और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छेकहते हैं कि 'ग़ालिब' का है अंदाज़-ए-बयाँ और (7)
 और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छेकहते हैं कि 'ग़ालिब' का है अंदाज़-ए-बयाँ और (6)
 और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छेकहते हैं कि 'ग़ालिब' का है अंदाज़-ए-बयाँ और (5)
 और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छेकहते हैं कि 'ग़ालिब' का है अंदाज़-ए-बयाँ और (3)
 और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छेकहते हैं कि 'ग़ालिब' का है अंदाज़-ए-बयाँ और (4)
 और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छेकहते हैं कि 'ग़ालिब' का है अंदाज़-ए-बयाँ और (1)
 और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छेकहते हैं कि 'ग़ालिब' का है अंदाज़-ए-बयाँ और (2)

ये भी पढ़ें - 

महान शायर मिर्जा गालिब की जयंती पर गूगल ने बनाया डूडल, पढ़ें उनके चुनिंदा शेर

 

 


author
कुलदीप सिंह

Executive Editor - News World India. Follow me on twitter - @KuldeepSingBais

कमेंट करें