नेशनल

आत्म-दीपित “सुहागरातों” के सबूत न तो माँगे जाते हैं और न दिए जाते हैं: डॉ. कुमार विश्वास

आशुतोष कुमार राय, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2296
| मार्च 5 , 2019 , 17:07 IST

हिन्दी के कवि और कवि से राजनीति में एंट्री लेने वाले प्रखर वक्ता डॉ. कुमार विश्वास ने भारतीय वायुसेना द्वारा किए गए एयर स्ट्राइक के बाद उसका सबूत मांगने वालों को अपने कवि वाले अंदाज में जवाब दिया है। विश्वास ने कहा है कि ऐसी आत्म-दीपीत ''सुहागरातों'' के सबूत नहीं मांगे जाते ।

इस मुद्दे पर डॉ. कुमार विश्वास ने अपनी राय रखते हुए कहा है कि 'सैनिक के लिए शत्रु पर आक्रमण उसके पराक्रम-प्रदर्शन की सौभाग्य-रात्रि होती है ! ऐसी आत्म-दीपित “सुहागरातों” के सबूत न तो मांगे जाते हैं और न ही दिए जाते हैं! कुछ महीनों में ये जगभर को स्वयं ही ज्ञापित हो जाते हैं अर्थात खुद ही पता चल जाता है।

हालांकि एयर स्ट्राइक वाले दिन भी सबूत मांगने वाले नेताओं पर सबूत मांगने से पहले कुमार विश्वास ने तंज कसते हुए एक ट्वीट किया था... जिसमें विश्वास ने कहा था कि इस बार सर्जिकल 2 का कोई भी सबूत माँगे तो इंडियन एयर फोर्स से अनुरोध है कि आप जाँबाज़ों ने जैसा हज़ार टन का सबूत इमरान खान को दिया है वैसा ही सौ-दो सौ ग्राम का सबूत ऐसे लोगों को भी ज़रूर पहुँचाए !

किस-किस को चाहिए सबूत-:

देश की वायु सेना ने पाक में छिपे बैठे आतंकियों पर बड़ी कारवाई तो की पर अपने देश में बैठे नेता इसके उपर राजनीती भी करते दिखाई दिए...

ममता बनर्जी-:

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी नेता ममता बनर्जी ने 26 फरवरी को भारतीय वायुसेना की ओर से पाकिस्तान में घुसकर जैश - ए- मोहम्मद के ठिकानों पर की गई आतंकी कार्रवाई के सबूत मांगे और पूछे कितने आतंकी मरे।

दिग्विजय सिंह औऱ कपिल सिब्बल -:

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने भी एयर स्ट्राइक पर सवाल खड़े करते हुए कहा है कि 'सरकार के सैटेलाइट की तस्वीरें जारी करना चाहिए'। वहीं एक और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने भी मांग कि पीएम मोदी को अंतरराष्ट्रीय मीडिया की उन खबरों पर जरूर बोलना चाहिए जिसमें कहा जा रहा है कि बालाकोट में हुई एयर स्ट्राइक में शायद ही किसी की मौत हुई हो। सिब्बल ने कहा, 'क्या अंतरराष्ट्रीय मीडिया पाकिस्तान के समर्थन में हैं?

पी. चिदंबरम-:

'दुनिया को भी भरोसा हो तो सरकार को विपक्ष को कोसने की बजाय इसके लिए प्रयास करना चाहिए।'

नवजोत सिंह सिद्धू -:

'300 आतंकी मरे या नहीं? आतंकियों को मारने या पेड़ उखाड़ने? '

अरविंद केजरीवाल-:

'सेना ने कहा है कि कितने मरे ये नहीं कहा जा सकता, अमित शाह ने 250 के मरने का दावा कैसे किया?'

महबूबा मुफ्ती-:

'देश के नागरिकों को बालाकोट हमले पर सवाल उठाने का अधिकार है।'

उमर अब्दुल्ला-:

'अगर ये बालाकोट में हुआ है तो ये सिर्फ सांकेतिक कार्रवाई है, इस वक्त आतंकियों के लॉन्च पैड खाली रहते हैं'

जवाब में बोले एयर चीफ मार्शल धनोआ-:

नेताओं को जवाब देते हुए भारतीय वायुसेना के अध्यक्ष एयर चीफ मार्शल बीएस धनोवा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कहा, कि हमने अपने टारगेट पूरे किए हैं। कितने मरे ये गिनना हमारा काम नहीं है।''

 


कमेंट करें