नेशनल

चारा घोटाला: लालू यादव की जमानत याचिका खारिज, 30 अगस्त तक करना होगा सरेंडर

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
2103
| अगस्त 24 , 2018 , 14:52 IST

चारा घोटाला मामले में सजा काट रहे राजद सुप्रीमो लालू यादव की प्रोविजनल जमानत मामले में रांची हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। लालू को बड़ा झटका देते हुए रांची हाईकोर्ट ने उनकी औपबंधिक जमानत याचिका को खारिज कर दिया है। लालू की प्रोविजनल बेल की अवधि 27 अगस्त को समाप्त हो रही है और अब उन्हें 30 अगस्त तक कोर्ट में सरेंडर करना होगा।

लालू यादव ने मेडिकल आधार पर अपनी जमानत बढ़ाने के लिए आग्रह किया था। आपको बता दें कि लालू यादव 10 अप्रैल से परोल पर हैं। लालू यादव के वकील प्रभात कुमार ने कहा, 'लालू यादव का इलाज अब रांची के राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस अस्पताल (रिम्स) में होगा। वह फिलहाल मुंबई के एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट में भर्ती थे और अब उन्हें रिम्स लाया जाएगा।'

हाईकोर्ट में शुक्रवार को हुई सुनवाई के दौरान सीबीआई ने जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा कि लालू जमानत का गलत फायदा उठाकर इलाज कराकर आते हैं फिर अपने घर चले जाते हैं। हाल ही में लालू के बेटे तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर बताया था कि लालू प्रसाद यादव की हालत बिगड़ती जा रही है।तेजस्वी ने ट्वीट कर कहा, 'कई बीमारियों के कारण मुंबई के एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट में भर्ती अपने पिता से मिलने गया। उनकी सेहत में लगातार हो रही है गिरावट और इन्फेक्शन में बढ़ोतरी से काफी चिंतित हूं। प्रार्थना करता हूं कि वह जल्द से जल्द स्वस्थ्य हों। उनकी देखभाल के लिए विशेषज्ञ डॉक्टरों की पूरी टीम तैनात है।

आपको बता दें कि चारा घोटाले में दोषी करार देने के बाद से लालू रांची के बिरसा मुंडा जेल में बंद थे। बाद में गिरते स्वास्थ्य के कारण उन्हें रांची के अस्पताल में भर्ती कराया गया। फिर दिल्ली के एम्स में भी भेजा गया। खराब स्वास्थ्य की वजह से ही वो पिछले काफी समय से जमानत पर बाहर हैं।

लालू के वकील ने क्यों मांगा 3 महीने का समय

लालू के अधिवक्ता ने कोर्ट को बताया कि मुंबई स्थित एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट में लालू प्रसाद 6 अगस्त को भर्ती हुए हैं। उनका फिश्चूला (मलद्वार में घाव) का ऑपरेशन हुआ है। जिसकी रिकवरी में समय लगेगा। उन्हें यूरिनल, ब्लड प्रेशर व शुगर सहित अन्य बीमारियां हैं। उनका शुगर कंट्रोल नहीं हो रहा है, इसलिए उन्हें प्रतिदिन 70 इंसुलिन लेनी पड़ रही है। इसके बाद भी शुगर का लेवल 350 हो जा रहा है।

लालू प्रसाद को क्रोनिक किडनी की बीमारी है, जिसका ऑपरेशन किया जाना है। इसलिए उनकी औपबंधिक जमानत की अवधि तीन माह तक बढ़ा दी जाए। जिसके बाद कोर्ट ने 20 अगस्त तक औपबंधिक जमानत की अवधि बढ़ा दी थी।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें