नेशनल

सोमनाथ चटर्जी के बेटे ने CPM नेताओं को सिखाया सबक, द‍िखाया घर के बाहर का रास्‍ता

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2892
| अगस्त 14 , 2018 , 14:53 IST

पूर्व लोकसभा स्पीकर सोमनाथ चटर्जी के निधन पर शोक प्रकट करने आए कम्‍युन‍िस्‍ट पार्टी (सीपीएम) के नेताओं को अपनी बेइज्जती का सामना करना पड़ा। सोमनाथ चटर्जी के बेटे प्रताप चटर्जी अपने पिता को श्रद्धांजलि देने पहुंचे सीपीएम नेताओं पर कोई रहम न बरतते हुए उन्‍हें घर से बाहर का रास्‍ता द‍िखाया।

बता दें कि सोमवार को सोमनाथ चटर्जी के न‍िधन की खबर सुनकर सीपीएम नेता ब‍िमान बोस और प्रदेश सच‍िव सूर्यकांत म‍िश्र समेत कई द‍िग्‍गज साउथ कोलकाता स्‍थ‍ित उनके घर पहुंचे। यहां सीपीएम नेताओं को देखकर पर‍िवार के लोगों ने अपना आपा खो द‍िया। सोमनाथ चटर्जी के बेटे ने इस दौरान नेताओं को घर में प्रवेश करने से रोक दिया।

प्रताप चटर्जी ने बिमान बसु और सूर्यकांत मिश्रा जैसे नेताओं की तरफ उंगली करके कहा कि जिन्होंने ने मेरे पिता को दुख पहुंचाया उन्हें इस घर में आने की इजाजत नहीं है। इसके बाद सभी नेता दिवंगत नेता को श्रद्धांजलि देकर चले गए।

हाईकोर्ट में वकील और दिवंगत नेता के पुत्र प्रताप चटर्जी ने घर के अंदर से ही कहा, 'उन्हें (बिमान बोस को) तुरंत बाहर का रास्ता दिखा दो। वह उन लोगों में से थे, जिन्होंने मेरे पिता को पार्टी से निकाला था।' बिमल बोस से चंद मिनटों पहले सांसद मोहम्मद सलीम को भी शर्मिंदगी झेलनी पड़ी थी। इस दौरान प्रताप ने सलीम के पास आकर कहा, 'क्या मैं आपसे कमरा खाली करने के लिए कह सकता हूं?'

इसके बाद मीडिया से बात करते हुए प्रताप चटर्जी ने कहा, ''मेरे पिता ने अपना पूरा जीवन पार्टी को समर्पित कर दिया लेकिन उन्हें पार्टी सदस्यों की तरफ से सिर्फ अपमान ही मिला। बिमान बासु ने कई बार मेरे पिता की भावनाओं को आहत किया। वो जब भी दिल्ली आते थे मेरे पिता के घर में रहते थे। उन्होंने मेरे पिता का इस्तेमाल किया लेकिन उन्हें कभी अपेक्षित सम्मान नहीं दिया।"

 वहीं प्रताप चटर्जी के व्यवहार पर बिमान बोस ने कहा, ''मुझे उनके बर्ताव का बुरा नहीं लगा रहा। इतनी बड़ी क्षति से वो पूरी तरह टूट गए हैं। असल में उनके पिता उन्हें पसंद नहीं करते थे।''

सोमनाथ चटर्जी की बेटी ने अुनश‍िला ने कहा, 'मैं नहीं चाहती हूं क‍ि बाबा का पार्थ‍िव शरीर सीपीएम हेडक्‍वॉर्टर में ले जाया जाए या फ‍िर उनके शरीर को लाल झंडे से लपेटा जाए। हमें ऐसा क्यों करना चाहिए? क्‍या वह पार्टी के सदस्‍य थे?'

उन्‍होंने कहा क‍ि उनकी मां भी यह नहीं चाहती हैं क‍ि चटर्जी का शरीर अलीमुद्दीन स्‍ट्रीट स्‍थ‍ित सीपीएम कार्यालय जाए। अनुश‍िला ने इस दौरान याद किया कि उनके प‍िता को पार्टी से कितना लगाव था।

सोमनाथ चटर्जी के परिजनों के गुस्से की एक वजह सीपीएम पोलित ब्यूरो की तरफ से उनके निधन पर जारी किया गया बयान भी माना जा रहा है। इस बयान में उन्‍हें पार्टी का पूर्व नेता कहने के बजाए पूर्व लोकसभा अध्‍यक्ष और 10 बार के लोकसभा सांसद के रूप में संबोध‍ित क‍िया गया था।


कमेंट करें