वीडियो

फ्रेंडशिप डे पर देखिए वो 5 गाने जो आपको दोस्ती का एहसास कराते हैं

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
2706
| अगस्त 5 , 2018 , 08:33 IST

वैसे तो दोस्ती मनाने का कोई समय नही होता और न ही ये किसी वक्त का मोहताज ही होता है। फिर भी दुनियाभर में फ्रेंडशिप डे अगस्त के पहले रविवार को मनाया जाता है। इस बार यह 5 अगस्त को मनाया जा रहा है। वैसे तो कहा जाता है कि दोस्ती के लिए कोई खास दिन नहीं होता, लेकिन फिर भी इस दिन अपने दोस्त को कोई गाना या फिल्म डेडिकेट कर आप भी उसे स्पेशल फील करा सकते हैं। फ्रेंडशिप डे में बॉलीवुड ने भी अहम भूमिका निभाई है। 80 के दशक से ही दोस्ती पर न जानें कितनी फिल्में और गाने बने हैं, जिन्हें आज भी लोगों की जुबान पर गाते-गुनगुनाते सुन लिया जाएगा। इसी खास मौके पर हम भी आपके लिए लेकर आए हैं दोस्ती से जुड़े कुछ सदाबहार गाने, जिन्हें सुनकर आपको भी दोस्त की याद आ जाएगी।

दिल चाहता है

साल 2001 में फ्रेंडशिप पर बनी फिल्म दिल चाहता है भी दर्शकों को खूब पसंद आई थी। तीन दोस्तों की इस अनोखी दोस्ती ने खूब एंटरटेन किया था। फिल्म का गाना दिल चाहता है, हम न रहे कभी यारों के बिन दोस्ती की असली दास्तां बयां करता है। इस रविवार फ्रेंडशिप डे के खास मौके पर आप इसे दोस्तों के साथ बैठ कर साथ देख सकते हैं।

यारों दोस्ती बड़ी ही हसीन है

कॉलेज की दिनों को याद करते हुए फिल्माया गया ये गाना वाकई बहुत ही खूबसूरत है। गाने के बोल आप को अपनी ही दुनिया में ले जाएंगे, जहां आप भी अपने बीते पलों को याद करने पर मजबूर हो जाएंगे। दोस्तों के साथ फ्रेंडशिप डे पर मिलकर इस गाने को री-क्रिएट किया जा सकता है। बस, आपको इसमें अपने कुछ हसीन पल डालने हैं।

मेरा यार है तू

इस साल ही रिलीज हुई फिल्म सोनू के टीटू की स्वीटी का गाना मेरा यार है तू बहुत ही खास है। दोस्तों के जरूरत और साथ को दर्शता ये गाना आपको भी इस बात का अहसास कराएगा कि आपका दोस्त आपके लिए कितना खास है। फिल्म में भी दोस्त की जरूरत और उसकी अहमियत को बखूबी दिखाया गया था। इस फ्रेंडशिप डे आप भी उसकी कोई बात मानकर उसे ये गाना डेडिकेट कर सकते हैं।

तेरे जैसा यार कहां

साल 1981 में आई फिल्म याराना में फिल्माया गया गाना 'तेरे जैसा यार कहां' दोस्ती की मिसाल देता है। दोस्त के लिए दिल से गाया गया ये गाना आज भी लोगों की जुबान पर और फोन लिस्ट में मिल जाएगा। तो क्यों न इस बार दोस्त के साथ बिताए पलों को इस गाने के साथ शेयर किया जाए, और उनकी दोस्ती को खास बनाया जाए।

तेरे जैसा यार कहां

साल 1981 में आई फिल्म याराना में फिल्माया गया गाना 'तेरे जैसा यार कहां' दोस्ती की मिसाल देता है। दोस्त के लिए दिल से गाया गया ये गाना आज भी लोगों की जुबान पर और फोन लिस्ट में मिल जाएगा। तो क्यों न इस बार दोस्त के साथ बिताए पलों को इस गाने के साथ शेयर किया जाए, और उनकी दोस्ती को खास बनाया जाए। 

चाहूंगा मैं तूजे सांझ सवेरे..

दोस्ती 1964 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है जिसके निर्देशक सत्येन बोस और निर्माता अपने राजश्री प्रोडक्शन्स के तले ताराचंद बड़जात्या हैं। जैसा फ़िल्म का नाम है, यह फ़िल्म एक अपाहिज लड़के और एक अन्धे लड़के के बीच दोस्ती को दर्शाती है। इस फ़िल्म को 1964 के फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कारों में छ: पुरस्कारों से नवाज़ा गया जिसमें फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म पुरस्कार भी शामिल है।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें