इंटरनेशनल

सऊदी अरब में अराफात की पहाड़ी पर दुआओं के लिए उठे 20 लाख हाथ, देखें तस्वीरें

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2323
| अगस्त 22 , 2018 , 14:53 IST

दुनियाभर के करीब 20 लाख से ज्य़ादा हाजी मैदान-ए-अराफात में जमा हुए। अरबी महीने की 9वीं ज़िलहज्जा यानि बकरी ईद से एक दिन पहले हाजी मैदान-ए-अराफात में पहुंचता है और ये हज का सबसे अहम दिन माना जाता है।

1हाजी मक्का से मदीना के लिए रवाना होते हैं और एक दिन रुकने के बाद हाजी 9 जिलहिज्जा को मीना से मैदान-ए-अराफात के लिए रवाना होते हैं। 9 जिलहिज्जा है इसलिए हाजी मैदान मैदान-ए-अराफात में जमा होते हैं।

8भारी भीड़ और किसी तरह की भगदड़ से बचने के लिए सुरक्षा के भारी इंतजाम किए जाते है।

6यह सीमित साधनों वाले हजयात्रियों के लिए एक समाधान है, जो मौका स्थल पर होटल बुक कराने में समर्थ नहीं है, लेकिन उन्हें हज के दौरान फौरी तौर पर आराम की जरूरत होती है।

10सऊदी स्वास्थ्य मंत्रालय ने हजयात्रियों की स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए कई तरह के इंतजाम किए हैं। 25 अस्पतालों और 155 स्वास्थ्य केंद्रों की व्यवस्था की है।

9हजयात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कोई चेतावनी जारी नहीं की गई जो आज हजयात्री अराफात के लिए मीना से रवाना हुए हैं।

7

एक व्यक्ति तीन घंटे तक पॉड्स का इस्तेमाल कर सकता है। जब हजयात्री प्रार्थना के समय उठेंगे तो पॉड्स को किसी दूसरे व्यक्ति को सौंपने से पहले कार्यकर्ता इसकी सफाई करेंगे।

2ऐसा पहली बार हुआ कि भारत से 1,308 महिलाएं बिना मेहरम के हज यात्रा पर गईं।

3इस साल मार्च में सर्वोच्च न्यायालय ने 70 या इससे ज्यादा के उम्र के हज यात्रियों के लिए 'विशेष कोटा' निर्धारित करने और पांच या इससे अधिक बार हज यात्रा के लिए आवेदन कर चुके 65 से 69 वर्ष के लोगों को प्राथमिकता देने के निर्देश दिए थे।


कमेंट करें