नेशनल

गांधीजी का 1926 में ईसा मसीह पर लिखा पत्र हो रहा नीलाम, पढ़ें क्या था उस खत में

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1318
| मार्च 1 , 2018 , 19:46 IST

महात्मा गांधी का लिखा हुआ एक पत्र नीलाम होने जा रहा है। इस पत्र में गांधी जी ने ईसा मसीह के बारे में बारे में लिखा था। यह पत्र अब अमेरिका में नीलाम होने जा रहा है। इस पत्र में राष्ट्रपिता ने जीसस क्राइस्ट को मानवता का महान प्रवर्तक बताया और सर्वधर्म समभाव पर जोर दिया है। यह पत्र उन्होंने साबरमती आश्रम से छह अप्रैल, 1926 को अमेरिकी धर्मगुरु मिल्टन न्यूबेरी फ्रेंत्ज को लिखा था। इसमें उनके हस्ताक्षर भी हैं।

कई दशकों तक यह पत्र एक निजी संग्रह का हिस्सा था। पेंसिलवेनिया स्थित रैब कलेक्शन इसकी नीलामी करवा रही है। उम्मीद जताई गई है कि यह पत्र 50 हजार डॉलर (करीब 32.5 लाख रुपये) में बिक सकता है। रैब कलेक्शन के नाथन रैब ने कहा, 'धर्म पर लिखे गांधी के पत्रों में यह सबसे बेहतरीन है। इसके अतिरिक्त गांधी ने जीसस पर कुछ नहीं लिखा। उन्होंने पत्र में सभी धर्मों के लिए अपने आदर और विश्वास को प्रकट किया जो आज के समाज के लिए बहुत जरूरी है।'

Gandhis_letter_on_christ_1519899077_725x725

गांधी ने पत्र में मिल्टन न्यूबेरी फ्रेंत्ज को संबोधित करते हुए लिखा है,

प्रिय दोस्त मेरे पास आपका पत्र है। मैं भयभीत हूं, क्योंकि मैं आपके सुझाए पंथ को नहीं अपना सकता। आपने मुझे विश्वास कराया कि मसीह अनदेखी वास्तविकता की सबसे बड़ी अभिव्यक्ति हैं लेकिन मैं इससे सहमत नहीं हूं। मैं ईसा को मानवता के सबसे बड़े प्रवर्तक के रूप में मानता हूं। धार्मिक एकता के लिए सबसे अधिक जरूरी किसी एक पंथ को स्वीकार कराना नहीं, बल्कि हर संप्रदाय का आदर करना है।


कमेंट करें