इंटरनेशनल

नोबल शांति विजेता मलाला बोली, युवा सोशल मीडिया को बनाएं राजनीतिक हथियार

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
423
| सितंबर 2 , 2017 , 08:59 IST

नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित पाकिस्तान की साहसी युवती मलाला यूसुफजई ने कहा कि युवा सोशल मीडिया को एक राजनीतिक हथियार के रूप में इस्तेमाल करें, ताकि समाज में फैली असमानता, महिला अधिकार और शिक्षा जैसी जन समस्याओं को पुरजोर तरीके से उठाया जा सके। समाचार एजेंसी एफे की खबर के मुताबिक, गुरुवार को मोंटेरेरी इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी और एंड हाइयर एजुकेशन में पत्रकारों को संबोधित करते हुए 20 साल की इस सामाजिक कार्यकर्ता ने सोशल नेटवर्क और मीडिया में फैले पक्षपात के बारे में चेताया भी।

मलाला ने कहा कि अगर पक्षपात ऑनलाइन भी बना रहता है, तो लोग यह सोचना शुरू कर देंगे कि उन्हें मुस्लिमों, मैक्सिकनों और ईसाइयों से नफरत करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि, हमें तकनीक का शुक्रिया अदा करना चाहिए, जिसकी बदौलत दुनिया के तमाम देशों की राजनीति में युवा अब बढ़चढ़ कर हिस्सा लेने लगे हैं।

Malala-oxford_serdfm

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के सोशल मीडिया अकाउंट पर अक्सर आने वाली अज्ञात लोगों की टिप्पणियों पर मलाला ने कहा कि ऐसे लोग गलत काम कर रहे हैं। वे खुलकर सामने आएं और बेहिचक बोलें। मलाला ने कहा कि लोगों को उनकी परंपरा, संस्कृति और राष्ट्रीयता का पालन करना चाहिए, लेकिन उन्हें नफरत का पालन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इससे दूसरे लोगों को दुख पहुंच सकता है।

मलाला ने लैटिन अमेरिका में महिलाओं की स्थिति पर चिंता जताई और महिलाओं के लिए समान शिक्षा के अधिकार के पक्ष में आवाज उठाई। मलाला ने महज 17 साल की उम्र में शांति का नोबेल पुरस्कार जीता था और उस वक्त की सबसे कम उम्र की नोबेल सम्मान पाने वाली नागरिक बनी थीं।

साहसी मलाला ने 11 साल की उम्र से ही लड़कियों के स्कूल जाने पर तालिबानी रोक के खिलाफ और समानता के लिए लड़ाई छेड़ रखी थी। मलाला बीबीसी के किसी उपनाम के जरिए ब्लॉग भी लिखती है। इसके जरिए वह लोगों को बताती है कि उनका देश किस कदर आंतक के कब्जे में है।

Malala-yousafzai2

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में दाखिला के लिए चुनी जाने के बाद मलाला ने कहा कि बच्चों के शिक्षित होने से किसी देश को अनगिनत फायदे हो सकते हैं। मलाला आगे कहा कि वह नेल्सन मंडेला, महात्मा गांधी, मार्टिन लूथर किंग जूनियर और विश्व के दूसरे नेताओं की तरह बनना चाहती हैं, जिन्होंने असमानता के खिलाफ लड़ाई लड़ी।


कमेंट करें