नेशनल

SC के फैसले को ममता बनर्जी ने बताया नैतिक जीत, बोलीं- हम अदालत का सम्मान करते हैं

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1476
| फरवरी 5 , 2019 , 13:48 IST

सीबीआई विवाद में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नैतिक जीत बताया है। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला नैतिक जीत है, बंगाल की जीत है, हमारी और आपकी जीत है। वहीं धरना जारी रखने के फैसले पर उन्होंने कहा कि वह अपने नेताओं से बात करके इस पर फैसला लेंगी। ममता ने यह भी कहा कि वह जल्दबाजी में कोई जवाब नहीं देगी। सीबीआई बिना नोटिस के कमिश्नर के घर गई थी।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर प्रतिक्रिया देते हुए कोलकाता में धरना स्थल पर मीडिया को संबोधित करते हुए ममता ने कहा, 'आज की जीत हमारी नहीं देश की जनता और लोकतंत्र की जीत है। मोदी सरकार हमें ठीक से काम नहीं करने दे रही है। हमारे नेताओं को जान-बूझकर परेशान किया जा रहा है। मैंने बहुत सहा है। हमारे लोगों की बेइज्जती की जा रही है। हालात पर मेरा दिल रो रहा है।

सीबीआई को लेकर उठे विवाद के बाद मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने वाली पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी का धरना तीसरे दिन भी जारी है। वहीं, इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई जिसमें कोर्ट ने कहा कि कमिश्नर को पूछताछ के लिए सीबीआई के सामने पेश होना पड़ेगा।

इस पर ममता ने कहा, 'राजीव कुमार ने कभी नहीं कहा कि वह नहीं मिलेंगे। उन्होंने कहा कि हम सही स्थान पर मिलना चाहते हैं, यदि आप कोई स्पष्टीकरण मांगना चाहते हैं, तो आप आ सकते हैं और हम बैठते हैं।' ममता ने आगे कहा, 'लेकिन उन्होंने क्या किया? उन्होंने उन्हें (राजीव को) अरेस्ट करना चाहा, वे उनके घर गए, एक सीक्रेट ऑपरेशन के तहत बिना किसी नोटिस के। कोर्ट ने कहा- नो अरेस्ट। यह अधिकारियों के मनोबल को मजबूत करेगा।

ममता बनर्जी ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को नैतिक जीत बताते हुए कहा, 'हमने कभी सहयोग करने से मना नहीं किया। सीबीआई बिना नोटिस के कमिश्नर के घर गई थी।' उन्होंने कहा कि वह सिर्फ राजीव कुमार के लिए नहीं बल्कि सभी देशवासियों के लिए धरने पर बैठी हैं जो मोदी सरकार के अत्याचार से परेशान है।

उन्होंने कहा, 'हम अदालत के आदेश का सम्मान करते हैं नैतिक तौर पर यह हमारी जीत है। केंद्र-राज्य सरकार के काम में दखल दे रहा है। केंद्र संविधान का उल्लंघन कर रहा है।' मोदी हटाओ, देश बचाओ का नारा देते हुए ममता ने कहा कि 2019 में देश का हर व्यक्ति पीएम होगा। उन्होंने कहा, 'मोदी जी ने संविधान को नष्ट कर दिया, गणतंत्र को नष्ट कर दिया। मेरा कहना है मोदी हटाओ और देश बचाओ।

उन्होंने आगे कहा, 'मैं अभी जल्दबाजी में मैं कोई जवाब नहीं दूंगी सुप्रीम कोर्ट का आदेश पढ़ने के बाद पूरा जवाब दूंगी। धरना खत्म करने के बारे में अभी कोई फैसला नहीं लिया है। नवीन पटनायक, चंद्र बाबू नायडू और विपक्ष के बाकी नेताओं से बातचीत कर धरने को लेकर आगे की रणनीति तय करेंगे। वे अब विपक्ष के नेता नहीं है, हमारे लिए मेन लीडर हैं। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि राजीव कुमार को गिरफ्तार न किया जाए। मैं राजीव कुमार नहीं बल्कि लाखों लोगों की लड़ाई लड़ रही हूं।

उन्होंने कहा, 'मैं सीबीआई के अधिकारियों या फिर किसी भी एजेंसी के खिलाफ नहीं हूं। मेरा कहना है कि इन लोगों को राजनीतिक दबाव में काम नहीं करना चाहिए।' बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने राजीव को बंगाल से बाहर शिलॉन्ग में सीबीआई के सामने पेश होने को कहा है। बता दें कि बंगाल की सीएम ममता सीबीआई के खिलाफ तीन दिन से धरने पर बैठीं हुई हैं। सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश से उनको झटका लगा है। अदालत ने साथ ही राज्य के मुख्य सचिव, डीजीपी और कोलकाता पुलिस कमिश्नर को सीबीआई की मानहानि याचिका पर नोटिस जारी किया है। मामले की अगली सुनवाई 20 फरवरी को होगी।


कमेंट करें