नेशनल

गैरजरूरी रोमांच था नोटबंदी का फैसला, देश को जरूरत नहीं थी- मनमोहन सिंह

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
1069
| सितंबर 23 , 2017 , 17:47 IST

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले को एक बार फिर गलत बताया है। मनमोहन ने कहा कि नोटबंदी के लिए उठाए गए इस कदम की कोई जरूरत नहीं थी। उन्होंने कहा कि लैटिन अमेरिकी देशों को छोड़कर अन्य किसी भी लोकतांत्रिक देश में नोटबंदी सफल नहीं रही है। आपको बता दें कि मनमोहन सिंह पहले भी नोटबंदी के फैसले की निंदा कर चुके हैं।

मनमोहन सिंह ने मोहाली के इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस (आईएसबी) लीडरशिप समिट में कहा कि, मुझे नहीं लगता कि आर्थिक और तकनीकी तौर पर इस रोमांच की जरूरत थी। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद पिछले साल से ही देश की अर्थव्यवस्था में गिरावट देखी जा रही है।

MANMOHAN

मनमोहन ने कहा कि इससे रोजगार के मौके कम हुए हैं। प्राइवेट सेक्टर में इन्वेस्टमेंट कम हुआ है और देश की अर्थव्यवस्था अब पब्लिक स्पेंडिंग की भरोसे ही चल पा रही है। युवाओं के लिए रोजगार नहीं मिल रहा है और ये सबसे ज्यादा चिंता की बात है।

गौरतलब है कि, नोटबंदी के फैसले की कांग्रेस ने शुरुआत से ही जमकर निंदा की है और इस फैसले को गलत बताया है।

क्या था नोटबंदी का फैसला?

पीएम नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर, 2016 को पुराने नोट बंद करने का फैसला किया था। इस फैसले के अनुसार 500 और 1000 हजार रुपये के पुराने नोट बंद किए गए थे। 15.4 लाख करोड़ की करेंसी चलन से बाहर की गई थी। नोटबंदी के लाने के पीछे का मकसद ब्लैकमनी को रोकना था।

 


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें