इंटरनेशनल

UNSC में चीन फिर बना मसूद अजहर की ढाल, बैन करने के प्रस्ताव पर लगाया वीटो

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1734
| मार्च 14 , 2019 , 10:53 IST

जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मसूद अज़हर को वैश्विक आतंकी घोषित करने पर एक बार फिर चीन ने रोड़ा अटका दिया। चीन एक बार फिर इस मामले में रोड़ा बन गया है। चीन ने अपना असली रंग दिखाते हुए आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद को वैश्विक आतंकी घोषित करने में बाधा डाल दिया है। हालांकि चीन ने ऐसा पहली बार नही किया है इससे पहले 2017 में भी चीन ने अड़ंगा लगाया था। चीन ने मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव पर वीटो लगा दिया। इसके साथ ही ये प्रस्ताव रद्द हो गया है। चीन की इस हरकत के बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि जब तक आतंकियों के खिलाफ पाकिस्तान कार्रवाई नहीं करता है, तब तक कोई बातचीत नहीं होगी।

नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने इस घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा, 'हम निराश हैं। लेकिन हम सभी उपलब्ध विकल्पों पर काम करते रहेंगे, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि भारतीय नागरिकों पर हुए हमलों में शामिल आतंकवादियों को न्याय के कठघरे में खड़ा किया जाए।' मंत्रालय ने कहा, 'हम उन देशों के आभारी हैं जिन्होंने अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित कराने की कवायद में हमारा समर्थन किया है।'

अजहर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की 1267 अलकायदा प्रतिबंध समिति के तहत प्रतिबंधित करने का प्रस्ताव फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका की ओर से 27 फरवरी को रखा गया था। 2017 में भी चीन ने अड़ंगा लगाकर जैश सरगना मसूद को वैश्विक आतंकी घोषित होने से बचा लिया था। उस वक्त चीन ने मसूद के पक्ष में तर्क दिया था कि वह बहुत बीमार है और अब ऐक्टिव नहीं है और न ही वह जैश का सरगना है।

पिछले सभी मामलों में चीन इस प्रस्ताव पर तकनीकी रोक लगा चुका है। इस बार बीसियों सबूत जुटाकर हिंदुस्तान ने यूएन से उसे ग्लोबल आतंकी घोषित करने की अपील की है, लेकिन चीन का कहना है कि पहले भारत के दावे की पड़ताल की जानी चाहिए।


कमेंट करें