नेशनल

हिजबुल में शामिल हो गया था कश्मीर यूनिवर्सिटी का प्रोफेसर, एनकाउंटर में ढेर

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
946
| मई 6 , 2018 , 15:39 IST

दक्षिण कश्मीर के शोपियां में सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच जारी एनकाउंटर में एक प्रोफेसर के आतंकी बनने और मारे जाने की खबर सामने आई है। प्रोफेसर से आतंकी बने डॉक्टर मुहम्मद रफी भट से सरेंडर करवाने के लिए सुरक्षा बल ने उनके परिवारवालों को घटनास्थल पर भी बुलाया लेकिन बाद में उसके मारे जाने की खबर आई।

कश्मीर यूनिवर्सिटी के सोशियोलॉजी डिपार्टमेंट में प्रोफेसर था रफी भट्ट

अंग्रेजी वेबसाइट 'इंडिया टुडे' की खबर के मुताबिक, कश्मीर यूनिवर्सिटी में सोशियोलॉजी डिपार्टमेंट में असिस्टेंट प्रोफेसर मोहम्मद रफी भट्ट शुक्रवार से संदिग्ध रूप से लापता हो गया था। जब उसके आतंकी संगठन में शामिल होने की अफवाह फैली, तो उसका परिवार कश्मीर यूनिवर्सिटी पहुंचा। मोहम्मद रफी का परिवार दक्षिण कश्मीर के गंदरबाल में रहता है।

कई दिनों से गायब था प्रोफेसर भट्ट

यूनिवर्सिटी प्रशासन ने मोहम्मद रफी के गायब होने को लेकर पुलिस को चिट्ठी लिखी थी, जिसके बाद पुलिस ने उसके गायब होने का मामला भी दर्ज किया। रविवार को सुरक्षाबलों को शोपियां में आतंकियों के छिपे होने की खबर मिली। इनपुट के मुताबिक, इन आतंकियों में हिज्बुल कमांडर सद्दाम पादर और असिस्टेंट प्रोफेसर मोहम्मद रफीक भी शामिल था। इसके बाद सुरक्षाबलों ने मुहम्मद रफी से सरेंडर करवाने के लिए उनके परिवारवालों को मौके पर बुलाया. लेकिन, आतंकी सरेंडर के लिए तैयार नहीं हुए और लगातार फायरिंग करने लगे। बाद में सभी आतंकियों के ढेर होने की खबर आई।

प्रोफेसर रफी भट के गायब होने की रिपोर्ट सामने आने के एक दिन बाद ही यह खुलासा हुआ कि प्रोफेसर अब आतंकी बन चुका है। कश्मीर यूनिवर्सिटी का असिस्टेंट प्रोफेसर रफी भट अब आतंकी बन चुका है और उसे रविवार को शोपियां जिले में सुरक्षा बलों की ओर से शुरू किए गए अभियान के दौरान उसे घेर लिया गया। बाद में इस मुठभेड़ में वह मारा गया।

पुलिस के रिकॉर्ड में गायब था प्रोफेसर भट्ट

अधिकारिक और परिवार से जुड़े सूत्रों के अनुसार, पुलिस ने प्रोफेसर से सरेंडर करवाने के लिए गांढेरबल के चुंदुना से उनके परिवारवालों को बुलाया गया था। एक पुलिस अधिकारी ने कहा, 'हमने शोपियां के बडगाम में अन्य आतंकियों को घेरने के दौरान उनके बारे में जानकारी मिलते ही उनके परिवार से संपर्क साधा है।
उनके परिवारवालों के अनुसार रफी शुक्रवार से ही गायब बताए जा रहे थे और उन्हें आतंकी बनने के बारे में किसी तरह की कोई जानकारी नहीं थी। परिवार के तरफ से रफी के गायब होने की बात सामने आने के बाद यूनिवर्सिटी प्रशासन ने पुलिस को पत्र लिखा, बाद में पुलिस ने उनके गायब होने का मामला भी दर्ज किया।

शोपियां में रविवार सुबह सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ शुरू हुआ, जिसमें कई आतंकियों को घेर लिया गया। शुरुआती मुठभेड़ के दौरान 2 सुरक्षाकर्मी घायल हो गए। इस मुठभेड़ में एक नागरिक की मौत हो गई। बाद में 4 आतंकियों के मारे जाने की खबर आई, जिसमें रफी भट भी शामिल था।


कमेंट करें