नेशनल

पटेल की जयंती पर 'रन फॉर यूनिटी', मोदी बोले- उनका नाम मिटाने का प्रयास हुआ

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
251
| अक्टूबर 31 , 2017 , 08:01 IST

लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की 142वीं जयंती के मौके पर देश भर में 'रन फॉर यूनिटी' कार्यक्रम का आयोजन हो रहा है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह पटेल चौक स्थित सरदार पटेल की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की।

पीएम मोदी ने यहां पर रन फॉर यूनिटी को हरी झंडी दिलाई और यहां पर मौजूद लोगों को एकता की शपथ दिलाई। मोदी के साथ इस दौरान मंच पर दीपा करमाकर, सुरेश रैना, सरदारा सिंह भी मौजूद रहे।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां अपने संबोधन में कहा कि आज सरदार साहब की जन्मतिथि है और पूर्व पीएम इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि भी है। सरदार पटेल ने अपने जीवन को देश की आजादी के लिए खपा दिया। आजादी के बाद भी सरदार पटेल ने अपने कौशल्य और शक्ति के द्वारा देश को संकटों को बचाया और देश को एक सूत्र में बांधा।

सरदार पटेल ने साम-दाम-दंड-भेद, कूटनीति और रणनीति के जरिये देश को एक सूत्र में बांधा। सरदार पटेल को हमारी देश की युवा पीढ़ी से परिचित नहीं कराया, इतिहास के झरोखे से इस महापुरुष के नाम को मिटाने की कोशिश की गई।

मोदी का कांग्रेस पर कटाक्ष

मोदी ने कहा कि देश के पहले राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद ने कहा था कि आजादी के बाद सरदार पटेल को जल्द ही भुलाया जा रहा है। लेकिन आज रन फॉर यूनिटी के जरिए हमें सरदार साहब को फिर याद कर रहे हैं। मोदी बोले कि विश्व की हर परंपरा को भारत अपने में समेटे हुए है। पीएम ने कहा कि कुछ लोग एक दूसरे को मारने में लगे हुए हैं, लेकिन इस दौर में भी भारत एकता के सूत्र में बंधा हुआ है। कई लोगों ने सरदार साहब के योगदान को भूलने की कोशिश की. लेकिन हम ऐसा नहीं होने देंगे। आज इस कार्यक्रम से राजेंद्र बाबू की आत्मा को शांति मिल रही होगी।

सरदार ने किस तरह पूरे देश को एक किया, इसका पता हर पीढ़ी को पता होना चाहिए। जब सरदार साहब की जयंती को 150 साल होंगे, उस समय हमें देश की एकता को और भी आगे बढ़ाना होगा। 2022 में आजादी को 75 साल हो रहे हैं, हम सभी को एक संकल्प लेना चाहिए और उसे पूरा करना चाहिए।


कमेंट करें