नेशनल

हैम्बर्ग में PM मोदी और जिनपिंग की बैठक से सुलझा था डोकलाम विवाद: दावा

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
287
| सितंबर 30 , 2017 , 19:28 IST

डोकलाम में भारत और चीन के बीच चल रहे विवाद को खत्म्म करने के लिए हैम्बर्ग में G20 सम्‍मेलन के दौरान मोदी और जिनपिंग की बैठक हुई थी और इस बैठक में हल निकालने की आधारशिला रखी गई थी। इस बात का खुलासा एक नई किताब में हुआ है। रणनीतिक मामलों के विशेषज्ञ नितिन ए. गोखले ने 'सिक्यॉरिंग इंडिया द मोदी वे' नाम की किताब में खुलासा किया है कि यह बैठक जी-20 सम्मेलन में मोदी के शी के पास चले जाने के बाद हुई थी। उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को इस किताब का विमोचन किया था।

किताब के मुताबिक, 'बैठक के गवाह रहे भारतीय राजनयिकों के अनुसार, प्रधानमंत्री की शी से अघोषित मुलाकात के बाद चीनी दल चकित रह गया था।' किताब के अनुसार, संक्षिप्त मुलाकात के दौरान, मोदी ने शी को सलाह दी कि भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और स्टेट काउंसलर यांग जीची को डोकलाम विवाद सुलझाने की अगुवाई करनी चाहिए। बताया जाता है कि मोदी ने शी से कहा, 'हमारे रणनीतिक संबंध डोकलाम जैसे इन छोटे सामरिक मुद्दों से बड़े हैं।' 

बुक के मुताबिक डोकलाम गतिरोध के दौरान दोनों देशों के बीच कम से कम 38 मीटिंग हुईं। भारत की तरफ से इसकी अगुआई चीन में एम्बेसडर विजय गोखले ने की। भारतीय टीम को पीएम मोदी की तरफ से नई दिल्ली की रेड लाइन को लेकर क्लीयर इंस्ट्रक्शन थे। टीम को बता दिया गया था कि भारत जमीन पर मजबूती से डटा रहेगा और इस मसले के हल के लिए डिप्लोमैसी ही सबसे सही रास्ता है।

Feature modi
भारत और चीन दोनों ने विवाद सुलझाने के बाद अपने बयानों में इन मुद्दों के बारे में कोई जानकारी नहीं दी थी। किताब में यह भी खुलासा किया गया है कि यह विवाद मई के अंतिम दिनों में शुरू हुआ और इसे तीन चरणों में बांटा जा सकता है -मई के अंत से 25 जून तक गतिरोध, 26 जून से 14 अगस्त के बीच दोनों तरफ की सेनाएं आमने-सामने और 15 अगस्त से 28 अगस्त के बीच विवाद अपने चरम पर था।

author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें