गणेश चतुर्थी 2018

मुंबई: एसिड पीड़ित लड़कियों ने बनाए 8 ईको फ्रेंडली गणेश जी की मूर्तियां

अंकुश जायसवाल, संवाददाता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1750
| सितंबर 14 , 2018 , 20:21 IST

मुंबई के लोअर परेल के पंचगंगा गणेशोत्सव मंडल में बप्पा का 8 ऐसे मनमोहक रूप को स्थापित किया गया है जो पूरी तरह से इको फ्रेंडली है, इन मूर्तियों का निर्माण में ऐसी चीजों का इस्तेमाल किया गया है जिसे हम फिर से रीयूज कर सकते है। और बड़ी बाद ये है कि इन मूर्तियों को ऐसिड पीड़ित लड़कियों ने बनाया है।

Untitled design (25)

ये तमाम गणपति की मूर्तियां है। ये मूर्तियां बेहद खास है, इनकी खासियत ये है कि जिन चीजों से ये मूर्तियां बनी है उनको आप दुबारा इस्तेमाल कर सकते है, ईको फ्रेंडली के साथ साथ ये रीयूज भी किया जा सकेगा। बड़ी बात ये है कि इन मूर्तियों को उन महिलाओं ने बनाया है जो समाज में मौजूद विकृत मानसिकता की शिकार हुई है, ये महिलाएं पीड़ित है एसिड अटैक की, ये महिलाएं पीड़ित है दहेज उत्पीड़न में जलाने की। पंडाल में मौजूद गणपति बप्पा की मूर्तियां सभी से महिला उत्थान की सीख दी रही है।

यहाँ इस मंडल की ये भी खासियत है कि पंडाल को गोबर से लीपा गया है और हर गणपति क्या संदेश दे रहा है उसको दृष्टिहीन भी समझ ले इसलिए संदेश को ब्रेल लिपि में भी लिखा गया है। यहाँ दर्शन के लिए आये सभी भक्तों को खास प्रसाद भी मिलता है। बप्पा के भक्तों को यहां वीमेन सेफ्टी ऐप प्रसाद के रूप में दिया जाता है। पंचगंगा गणेशउत्सव मंडल पिछली बार 108 गणपति वो भी ईको फ्रेंडली और एक ही पंडाल में विराजमान कर गिनीज बुक में रिकॉर्ड भी दर्ज किया है, जाहिर है सामाजिक संदेश की जिस संकल्पना को लेकर तिलक ने सार्वजनिक गणेशोत्सव की शुरूआत की थी वो यहां देखने जरूर मिलता है।