नेशनल

मुंबई कोर्ट से भगोड़े विजय माल्या को राहत, जबाव देने के लिए 3 हफ्ते का मिला वक्त

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
1978
| सितंबर 3 , 2018 , 19:05 IST

बैंकों का करीब 9 हजार करोड़ रुपये का लोन लेकर फरार शराब कारोबारी विजय माल्या को मुंबई की एक स्पेशल कोर्ट से राहत मिली है। कोर्ट ने सुनवाई के बाद माल्या को ईडी के आवेदन पर जवाब देने के लिए तीन हफ्ते का समय दे दिया है। अब माल्या को 24 सितंबर तक अपना जवाब अदालत में दाखिल करना होगा। इसके बाद ही विशेष अदालत मामले की सुनवाई के बाद विजय माल्या को आर्थिक भगोड़ा अपराधी घोषित करने को लेकर निर्णय लेगी।

ईडी ने समय देने का विरोध किया था

इससे पहले सुनवाई करते हुए विशेष अदालत ने 3 सितंबर की तारीख तय की गई थी। सोमवार सुबह ईडी ने अदालत से कहा कि माल्या को उसके खिलाफ दायर याचिका का जवाब देने के लिए और समय नहीं दिया जाना चाहिए। सुनवाई शुरू होने पर माल्या के वकील ने अदालत से ईडी के नोटिस का जवाब देने के लिए और समय की मांग की थी. इस दौरान माल्या के वकील ने उसके मॉरीशस के पता के बारे में भी जानकारी दी।

बता दें कि भारी कर्ज में दबी एयरलाइंस किंगफिशर के मालिक विजय माल्या पर आरोप है कि वह कई बैकों से करीब 9,990 करोड़ रुपये का लोन लेकर फरार हैं। फिलहाल माल्या लंदन में हैं और वहां उनके खिलाफ भारत प्रत्यर्पण का केस चल रहा है। माल्या पर वह केस भारत सरकार की तरफ से सीबीआई और ईडी ने ही किया था।

आर्थिक भगोड़ा कौन?

नए अधिनियम के तहत जिसे आर्थिक भगोड़ा घोषित किया जाता है, उसकी सम्पत्ति तुरंत प्रभाव से जब्त कर ली जाती है। आर्थिक भगोड़ा वह होता है जिसके विरुद्ध सूचीबद्द अपराधों के लिए गिरफ्तारी का वारंट जारी किया गया होता है। साथ ही ऐसा व्यक्ति भारत को छोड़ चुका है, ताकि यहां हो रही आपराधिक कार्रवाई से बच सके या वह विदेश में हो और इस कार्रवाई से बचने के लिए भारत आने से मना कर रहा है। इस अध्यादेश के तहत 100 करोड़ रुपये से ज्यादा के धोखाधड़ी, चेक अनादर और लोन डिफाल्ट के मामले आते हैं।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें