विज्ञान/टेक्नोलॉजी

सोशल मीडिया के ज़रिए जटिल विज्ञान को नासा ने बनाया सरल ज्ञान (विश्लेषण)

icon कुलदीप सिंह | 0
1999
| फरवरी 6 , 2017 , 12:02 IST

13.12 अरब साल पहले हमारी आकाशगंगा का जन्म हुआ था। वही आकाशगंगा जिसमे हमारी धरती को 4.54 अरब साल हो गए हैं। मानव जाति अब तक अपनी आकाशगंगा की विशालता ही नाप नहीं पाई है, पूरे ब्रह्मांड में करोड़ों अरबों आकाशगंगाएं मौजूद हैं।

Hevelius_telescope

1608 में गैलिलियो ने टेलिस्कोप की खोज कर मानव की दृष्टि को धरती से दूर कॉसमॉस के और पास ला दिया। टेलिस्कोप की खोज भले ही कुछ सदी पहले हुई हो पर इंसानों की कॉसमॉस को और जानने की चाहत उससे पहले से ही रही है।

569f0869487dd_thumb900

दूसरी दुनिया और अन्य ग्रहों को और करीब से जानने की चाहत और उनसे जुड़ी जानकारी जुटाने के लिए अमेरिका ने सरकारी संगठन नासा की 1958 में शुरुआत की। नासा ने अबतक धरती के आस पास के वातावरण और आकाशगंगा की गहराइयों को पास से देखने के लिए कई अहम् मिशन लांच किये हैं। नासा से जुड़ी जानकारियां इतनी जटिल होतीं हैं की प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कुछ बुद्धिजीवी ही उन्हें समझ पाते हैं।

Nasa-004

इसी को ध्यान में रखते हुए नासा ने 2009 में सोशल मीडिया में अपनी पकड़ बनाना शुरू किया। सोशल मीडिया के जरिये नासा ने अंतरिक्ष से जुड़ी सभी जानकारियां सरल शब्दों के साथ साथ आकर्षक फोटो लगाकर दुनिया के सामने रखीं।

2009 में जब पूरी दुनिया ट्विटर और फेसबुक पर आ रही थी तभी नासा ने भी आम जनता से जुड़ना शुरू किया। आज नासा के ट्विटर अकाउंट के फॉलोवर्स की संख्या 21.7 मिलियन है जो की अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से 2 मिलियन कम है। नासा इंस्टाग्राम पर भी काफी एक्टिव है और धरती से बहार स्पेस में वैज्ञानिकों की स्पेस वॉक के लाइव वीडियो स्ट्रीम करता है और अंतरिक्ष की उम्दा तसवीरें भी डालता है। नासा के इस कदम से लोग काफी खुश हैं क्योंकि अंतरिक्ष से जुड़ी जटिल बातें अब सभी के सामने सरल शब्दों में रखी जाती है।

बचपन में हर किसी ने अंतरिक्ष यात्री बनने का ख्वाब देखा होगा और नासा सोशल मीडिया के जरिये उन सभी के सपनों को और करीब से दिखाता है।


author
कुलदीप सिंह

Executive Editor - News World India. Follow me on twitter - @KuldeepSingBais

कमेंट करें