बिज़नेस

NCLAT ने अनिल अंबानी को दी बड़ी राहत, मुकेश अंबानी को बेच सकेंगे अपनी संपत्ति

रवि शर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1441
| मई 31 , 2018 , 18:33 IST

नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल ((एनसीएलएटी) ने रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) और इसकी सहयोगी रिलायंस इन्फ्राटेल और रिलायंस टेलीकॉम के खिलाफ दिवालियापन प्रक्रिया पर सशर्त रोक लगा दी है। आरकॉम को अपनी संपत्ति मुकेश अंबानी नियंत्रित रिलायंस जियो के हाथों बेचने की भी इजाजत दे दी गई है।

एनसीएलएटी ने आरकॉम व इसकी सहयोगी कंपनियों से एरिक्सन  इंडिया को पहली जून से 120 दिनों के भीतर एरिक्सन को 550 करोड़ रुपये का भुगतान करने को कहा है। एनक्लैट ने कहा है कि अगर कंपनी यह भुगतान करने में विफल रहती है, तो उसके खिलाफ दिवालियापन प्रक्रिया शुरू करने का निर्देश दे दिया जाएगा।

RELIANCE12

अनिल अंबानी की अगुवाई वाली आरकॉम के लिए बड़ी राहत के रूप में देखा जा रहा है। कंपनी अपनी संपत्तियां रिलायंस जियो को बेचकर 25,000 करोड़ रुपये हासिल करने की उम्मीद कर रही है। एनसीएलएटी के चेयरमैन की अध्यक्षता वाली दो सदस्यीय पीठ ने आरकॉम के चेयरमैन/प्रबंध निदेशक को इस राशि के भुगतान के बारे में हलफनामा देने को कहा है। 

एरिक्सन इंडिया को भी यह पेशकश स्वीकार करने का एक हलफनामा देना होगा। उल्लेखनीय है कि आरकॉम ने अपने परिचालन कर्जदाता एरिक्सन का बकाया चुकाने के लिए 500 करोड़ रुपये के अग्रिम भुगतान की पेशकश की थी। एरिक्सन ने इस कंपनी के खिलाफ दिवाला और ऋणशोधन अक्षमता आदेश हासिल किया है। एरिक्सन की ओर से पेश हुए वकील ने कहा कि आरकॉम पर कंपनी का 978 करोड़ रुपये बकाया था, जो अब बढ़कर 1,600 करोड़ रुपये पर पहुंच चुका है। एरिक्सन ने नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) में आरकॉम और उसकी दो सहयोगी कंपनियों के खिलाफ दिवालियापन प्रक्रिया शुरू करने संबंधी अपील दायर की थी, जिसे 15 मई को एनसीएलटी ने स्वीकार कर लिया था।


कमेंट करें