राजनीति

BJP को लेकर सख्त हुए नीतीश, कहा-समाज को बांटने की राजनीति नहीं चलने देंगे

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1131
| मार्च 20 , 2018 , 14:16 IST

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपना मौन खत्म करते हुए कहा कि वह किसी भी हाल में ना तो भ्रष्टाचार बर्दाश्त कर सकते हैं और ना ही समाज को बांटने वाले लोगों का साथ दे सकते हैं।

नीतीश कुमार ने पार्टी दफ्तर में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में अपनी बात रखी। नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में प्रेम, सहिष्णुता और सद्भावना का माहौल रहा है और किसी भी हाल में उसे बिगड़ने नहीं देंगे। ये हमारा सिद्धांत है और हम अपने सिद्धांत पर कायम रहते हैं।

उन्होंने कहा कि मैंने महागठबंधन में रहकर कहा था कि भ्रष्टाचार से कभी समझौता नहीं करूंगा और इसी कारण भ्रष्टाचार में लिप्त लोगों का साथ छोड़ दिया था। बिहार में आपसी प्रेम, सहिष्णुता और सद्भावना को बिगाड़ने का प्रयास किया जा रहा है जो हमारी रीति नीति नहीं, हम समाज में प्रेम चाहते हैं। आपसी सद्भाव चाहते हैं।

नीतीश ने कहा कि आज लोग हंगामा मचा रहे हैं कि हम विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग नहीं करते। हम बता दें कि आंध्रप्रदेश ने तो आज ये मांग उठायी है, हम तो शुरू से ही इस बात को सामने लाते रहे हैं। सब हम पर आरोप लगाते हैं कि हम चुप रहते हैं। तो क्या करें, दूसरों की तरह दिन भर बक-बक करते रहें। हम काम करते हैं, बकवास में विश्वास नहीं करते।

केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान के एक बयान का समर्थन करते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि, ‘भाजपा को अल्पसंख्यकों के प्रति अपनी धारणा को बदलाना होगा। पासवान बहुत सीनियर नेता है। उन्होंने बहुत सोचने के बाद यह बात कही होगी।’

नीतीश ने स्पष्ट कहा, ‘मैं वोट की नहीं लोगों की चिंता करता हूं। मैं प्रारंभ से ही सामाजिक सद्भाव का पक्षधर रहा हूं। मेरे 12 साल के काम इसका प्रमाण हैं।’

मुख्यमंत्री ने दावा करते हुए कहा कि हम लोगों ने 12 सालों में अल्पसंख्यकों के कल्याण के लिए जो काम किए हैं, इससे पहले यहां कभी नहीं हुए थे। करोड़ों रुपए के चारा घोटाला से जुडे दुमका कोषागार से अवैध निकासी के एक मामले में राजद प्रमुख लालू प्रसाद को दोषी तथा पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र को बरी करार दिए जाने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि अदालत के निर्णय पर वे प्रतिक्रिया नहीं व्यक्त करते।


कमेंट करें